राजधानी में महर्षि महेश योगी के जन्म शताब्दी पूर्णता समारोह की धूम

राजधानी में महर्षि महेश योगी के जन्म शताब्दी पूर्णता समारोह की धूम

भोपाल।राजधानी के गुरुदेव ब्रह्मानंद सरस्वती आश्रम में महर्षि महेश योगी का जन्म शताब्दी वर्ष पूर्णता, महोत्सव के रुप में आयोजित किया जा रहा है।13 जनवरी तक चलने वाले महर्षि महेश योगी के जन्म शताब्दी वर्ष पूर्णता समारोह में देश के कई राज्यों से संत महात्मा पहुंचे हैं, जो आगामी 3 दिनों तक समारोह में शामिल होकर संबोधित करेंगे।

समारोह का पहला दिन आशीर्वाद दिवस के रूप में मनाया गया। वहीं दूसरा दिन ज्ञान युग दिवस और तीसरा दिन सांस्कृतिक दिवस के रूप में मनाया जाएगा। पहले दिन के कार्यक्रम में प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया मौजूद रहे।

संस्कृत भाषा को मिले बढ़ावाः संत

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए देश के श्रेष्टतम साधू संतों ने संस्कृत भाषा को बढावा देने सहित कई मुद्दों पर अपना उद्बोधन दिया। अयोध्या के श्रीराम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास महाराज का कहना है, कि इस महर्षि महेश योगी के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए उप्र के अयोध्या नगर में रामायण विश्वविद्यालय बनाए जाने के लिए राज्य सरकार से मांग की है, जिसमें वेद-पुराण की पढ़ाई के साथ-साथ संस्कृत भाषा भी पढ़ाई जाएगी, जिससे देश में संस्कृत भाषा को बढावा मिलेगा।

वहीं मप्र के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया से भी एक विधेयक लाने की बात कही है,जिससे संस्कृत पढ़ाने वाले शिक्षकों की जगह किसी और को नहीं रखा जाए। ब्रह्मचारी गिरीश जी का कहना है कि परम पूज्य महर्षि महेश योगी के जन्म शताब्दी वर्ष आज पूर्ण हुआ है, जिसको लेकर काफी तैयारी भी की गईं थीं।वहीं देशभर से साधू संतों ने यहां पधारकर सभी को आशीर्वाद दिया है। वहीं हमने प्रदेश में संस्कृत भाषा को अनिवार्य करने का प्रस्ताव पहले भी दिया है ,और अब एक बार फिर प्रस्ताव सरकार को देंगे।संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए सबसे अहम है कि उसे सभी कक्षाओं अनिवार्य किया जाए, ताकि, सभी भाषाओं के साथ संस्कृत को भी बढ़ावा मिल सके।


Share
Bulletin