जानिए क्या है वेलैंटाइन, पढ़िए वेलैंटाइन के इतिहास के पन्नों को!

जानिए क्या है वेलैंटाइन, पढ़िए वेलैंटाइन के इतिहास के पन्नों को!

वेलैंटाइन का इतिहास
ऐसा माना जाता है कि वैलेंटाइन-डे मूल रूप से संत वेलेंटाइन के नाम पर रखा गया है लेकिन संत वैलेंटाइन के विषय में ऐतिहासिक तौर पर विभिन्न मत हैं और कुछ भी सटीक जानकारी नहीं है। यह भी कहा जाता है कि संत वैलेंटाइन ने अपनी मृत्यु के समय जेलर की नेत्रहीन बेटी जैकोबस को नेत्रदान किया और जैकोबस को एक पत्र लिखा, जिसमें अंत में उन्होंने लिखा था तुम्हारा वैलेंटाइन। यह दिन था 14 फरवरी, जिसे बाद में इस संत के नाम से मनाया जाने लगा।

वेलैंटाइन डे पर तोहफे देने का चला ट्रेंड
वेलेंटाइन डे पर प्यार का इजहार नहीं बल्कि तोहफे देने का फैशन बन गया है। चॉकलेट, फूल, बुके, टेडीबियर जैसे अनेक तोहफे बाजार में सज चुके हैं। हर कोई अपने प्यार को कुछ न कुछ अनमोल तोहफा देना चाहता है, क्योंकि वे आज के दिन को यादगाार बनाने में कोई कोर कसर नहीं रखना चाहते हैं। गिफ्ट शॉप में आज के दिन को भुनाने के लिए खास तरह के उपहार डिस्प्ले किए हैं।

वैलेंटाइन डे सिर्फ कपल्स के लिए
वैलेनटाइन डे जरुरी नहीं कि आज का सिर्फ प्रेमी-प्रेमियों के लिए ही बना है।आज का दिन तो प्रेम को दर्शाने के लिए होता है और प्रेम सबके बीच होता है। एक मां का उसके बच्चे के प्रति, एक दोस्त का दोस्त के लिए या पति का अपनी पत्नी के लिए। 

फूलों की महक से गुलजार वेलैंटाइन डे
एक तरफ सड़के गुलाब के फूलों की महक से जहां महक रहीं है वहीं युवाओं के चेहरे वैलेनटाइन डे पर अजीब सी खुशी के साथ चहक रहे हैं। वैलेंटाइन डे को लेकर आम तौर पर युवाओं में सर्वाधिक खुमार देखने को मिल रहा है। वैलेंटाइन पर आम दिनों के मुकाबले फूल एवं गुलदस्तों की अच्छी बिक्री होती है, हालांकि यह बात अलग है कि सर्वाधिक मांग गुलाब के फूलों की ही रहती है। यही कारण है कि गुलाब के फूलों के दाम भी इन दिनों में बढ जाते हैं।


Share
Bulletin