फर्जी आईडी से कन्फर्म टिकट की बिक्री करने वाला गिरफ्तार, RPF की कार्रवाई 

फर्जी आईडी से कन्फर्म टिकट की बिक्री करने वाला गिरफ्तार, RPF की कार्रवाई 

दुर्ग : आरपीएफ ने रेलवे इंटरनेट साइट हैक कर अवैध रूप से किसी भी स्थान की कन्फर्म टिकट बनाकर बिक्री करने वाले जालसाज को गिरफ्तार किया है। आरोपी आनंद प्रसाद रेलवे द्वारा अधिकृत आईडी पासवर्ड की जगह फर्जी आईडी के सहारे घटना को अंजाम देता था।

आरपीएफ दुर्ग और रेलवे रायपुर विजिलेंस की टीम ने भिलाई के रिसाली स्थित आस्था ट्रैवल्स पर दबिश दी। आरोपी कई महीनों से लगातार फर्जी तरीके से यात्रियों का ऑनलाइन ई टिकट बुकिंग करता था। आरोपी के दुकान से 8 नग कन्फर्म ई टिकट, बुकिंग के दस्तावेज, कम्प्यूटर जप्त कर रेलवे अधिनियम के तहत कार्यवाई की जा रही है।

आरोपी भिलाई रिसाली स्थित आस्था ट्रैवल्स के नाम से दुकान संचालित करता है। भारतीय रेल में आरोपी द्वारा मेल, सुपरफास्ट, एक्सप्रेस आदि कई ट्रेनों का किसी भी दिन का कन्फर्म ई टिकट तत्काल बुकिंग के माध्यम से रेलवे की साइट को हैक करके बनाकर यात्रियों को दिया करता था।

इसके लिए आरोपी द्वारा निर्धारित शुल्क से अधिक अतिरिक्त शुल्क लिया जाता था। रेलवे को इस मामले की जानकारी तब हुई, जब लगातार रेलवे की साइट पर आम लोगों को टिकिट नहीं मिल रही थी। इसकी शिकायत भी लगातार की जा रही थी। विजिलेंस टीम ने आनंद प्रसाद को गिरफ्तार किया है।

इसके साथ ही आरोपी से इस्तेमाल किए जा रहे कम्प्यूटर, लैपटॉप के साथ 8 ई कंफर्म टिकट साथ ही 8500 रुपये नगद जब्त किया गया। इसके अलावा वहां उपयोग में लाए जा रहे सभी सिस्टम को अपने कब्जे में ले लिया। आरोपी आनंद प्रसाद पिछले कई महीनों से अवैध रूप से रेलवे के साइट को हैक कर कन्फर्म टिकट का व्यापार कर रहा था।

रेलवे के रिजर्वेशन काउंटर पर लोगों को कन्फर्म टिकट नहीं मिलने पर आरोपी द्वारा ब्लैक में अधिक रकम लेकर अपने दुकान से कन्फर्म टिकट बनाकर देता था। दुर्ग आरपीएफ पोस्ट प्रभारी पी तिवारी ने बताया कि आरोपी अवैध रूप से टिकिट का कारोबार करता था। जिसकी शिकायत पर आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

आरोपी फेक आईडी के जरिए अवैध रूप से टिकट बुक करता था। आरोपी के पास से सॉफ्टवेयर भी बरामद किया गया है, जिसकी जांच की जाएगी। आरोपी के पास बरामद टिकटों को जांच के लिए भेजा जा रहा है, जांच के बाद ही मामले में और भी खुलासा होने की संभावना है। बहरहाल रेलवे पुलिस आरोपी के खिलाफ 143 रेल अधिनियम के तहत कार्यवाई कर जांच में जुट गई है।

 

 


Share
Bulletin