कोटा में पक्ष-विपक्ष द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दिया ज्ञापन

कोटा में पक्ष-विपक्ष द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दिया ज्ञापन

डॉ सी वी रमन विश्वविद्यालय प्रबंधन और पूर्व कुलसचिव शैलेश पांडे के ऊपर कोटा के ही निवासी प्रमेंद्र मानिकपुरी द्वारा एफआईआर करवाने के बाद से ही कोटा में पक्ष विपक्ष द्वारा विरोध प्रदर्शन का दौर जारी है विरोध प्रदर्शन के दौरान जोगी कांग्रेस ने भी समर्थन दिया अगले दिन जोगी कांग्रेस के कार्यकर्ताओं नेताओं द्वारा कोटा नगर में रैली निकालकर कोटा थाने में ज्ञापन भी दिया और इस दौरान अल्टीमेटम भी दिया की जल्द गिरफ्तारी ना होने पर रमन विश्वविद्यालय के गेट में तालाबंदी सहित विश्वविद्यालय परिसर के अंदर कमरों में भी तालाबंदी कर दी जाएगी।

नही की गई गिरफ्तारी

जोगी कांग्रेस के नेताओं द्वारा आज 25 जून को रमन विश्वविद्यालय की तालाबंदी करने की बात को लेकर विश्वविद्यालय के में 150 से 200 की संख्या में जोगी कांग्रेसः के कार्यकर्ता व समर्थकों ने सीवी रमन विश्वविद्यालय पहुँचे जहाँ पुलिस दल मुस्तेद थी  जहाँ प्रदर्शन कर रहे जोगी काँग्रेस के 150 से 200 समर्थक को गिरफ्तार किया गया जहाँ थोड़ी देर बाद गिरफ्तार नेताओ को मुचलके पे छोड़ दिया गया साथ वहीं जोगी कांग्रेस के जिला महासहिव विकास सिंह ने बताया कि रमन विश्वविद्यालय में जो चार लोगों के ऊपर एफआईआर हुवा है  लेकिन अभी तक गरफ्तारी नही हुई ।

विश्वविद्यालय की तालाबंदी

उसी के विरोध में जोगी कांग्रेस की पार्टी आरोपियों की गिरफ्तारी व सीबीआई जाँच की मांग कर रहे है कोटा नगर में डॉ रमन यूनिवर्सिटी को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई  साथ ही  डॉ रमन विश्वविद्यालय प्रबंधन इन पूरे मामलों में बहुत सारे सवाल छुपे हुए हैं जिसकी जांच होनी है जो कि जांच का विषय है देखने वाली बात आज यह  कि  जोगी कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा रमन विश्वविद्यालय के तालाबंदी करने विरोध प्रदर्शन में क्या कुछ मामला सामने आता है।

राजनैतिक प्रदर्शन महज चुनावी हथकंडा

2018 का विधानसभा चुनाव सामने है जिसे कोटा विधानसभा के जनता सहित कोटा नगर के लोग और व्यापारियों की भी नजर लगी हुई है फिलहाल गिरफ्तारी को लेकर छत्तीसगढ़ जोगी कांग्रेस का प्रदर्शन क्या रंग लाएगा क्या जिन लोगों के ऊपर एफआईआर दर्ज हुआ है उनकी गिरफ्तारी होगी कि नही क्या ये एक राजनैतिक प्रदर्शन महज चुनावी और राजनीतिक रोटी सेंकने का हथकंडा तो नहीं।

 


Share
Bulletin