गे-सेक्स को लेकर सेना प्रमुख बिपिन रावत का बड़ा बयान कहा सेना में अडल्टरी की अनुमति नहीं

गे-सेक्स को लेकर सेना प्रमुख बिपिन रावत का बड़ा बयान कहा सेना में अडल्टरी की अनुमति नहीं

भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने गुरूवार को मीडिया से बात करते हुए कहा है कि सेना में समलैंगिक संबंधों औऱ विवाहेत्तर रिश्तों (अडल्टरी) की अनुमति नहीं दी जाएगी दरअसल उनसे पूछा गया था कि सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक संबंधों को अपऱाध के दायरे से मुक्त कर दिया है, ऐसे में आर्मी पर क्या प्रभाव होगा इस पर जनरल रावत ने कहा है कि सेना अदालत से ऊपर तो नहीं है मगर सेना में इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती।

हमारी सेना पुरानी सोच वाली है

सभी को आर्मी एक्ट के अनुसार ही चलना होगा सर्वोच्च अदालत के दो एतिहासिक फैसलों के असर से सम्बंधित एक सवाल का जवाब देते हुए जनरल रावत ने कहा कि सेना कानून से ऊपर नहीं है लेकिन सेना में समलैंगिक यौन संबंध औऱ व्यभिचार को मंजूरी देना बिलकुल संभव नहीं है। सीमाओं पर तैनात सैनिकों औऱ अफसरों को उनके परिवार के बारे में परेशान नहीं होने दिया जा सकता।

सेना के जवानों का आचरण सेना अधिनियम के द्वारा संचालित होता है

सेना में इस तरह के किसी कार्य कि अनुमति नहीं दी जा सकती है इसके लिए सेना के अधिनियम में इजाजत नहीं है आपको बता दें कि गत सितंबर में सुप्रीम कोर्ट की पांच नयायाधीशों की संविधान पीठ ने एकमत से गे सेक्स को अपराध की श्रेणी से मुक्त कर दिया था इसके साथ ही अडल्ट्री (सहमति से यौन सम्बन्ध) को अपराध मुक्त कर दिया गया था।


Share
Bulletin