पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत स्थिर, आज हो सकते हैं डिस्चार्ज

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत स्थिर, आज हो सकते हैं डिस्चार्ज

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को स्वास्थ्य संबंधित शिकायत के बाद एम्स में भर्ती करवाया गया था जहाँ अभी उनकी की हालत स्थिर बनी हुई है। अटल बिहारी वाजपेयी जी को यूरिन इंफेक्शन की शिकायत थी जिसमें कल आई जांच रिपोर्ट में यूरिन इंफेक्शन का कंट्रोल में होना बताया गया है अस्पताल प्रसाशन की तरफ से। पूर्व प्रधानमंत्री का इलाज कर रहे एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया अटल बिहारी वाजपेयी की जांच कर रहे मेडिकल टीम को लीड करते है और श्री बिहारी की अन्य जांच रिपोर्ट को देखकर उनको कब डिस्चार्ज किया जाये ये तय होगा। 

रिपोर्ट सामान्य होने के बाद अटल जी होंगे डिस्चार्ज
डॉक्टरों के मुताबिक के कई टेस्ट जो पिछले एक-दो सालों से नहीं हुए थे, इन सभी की रिपोर्ट आ जाने के बाद उनको डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। इनमें कई टेस्ट किये जा चुके हैं और सबकी रिपोर्ट सामान्य आई है। सूत्रों के मुताबिक दोपहर या देर शाम के बाद अटल जी को डिस्चार्ज किया जा सकता है। ​​ 

एम्स में लगा नेताओं का जमावाड़ा
बता दें सोमवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में नियमित परीक्षण के लिए 93 वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भर्ती किया गया जिनका इलाज खुद एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया कर रहे है। उनकी तबियत जानने के लिए शाम 6 बजे राहुल गांधी सबसे पहले पहुंचे जिसके बाद एम्स में नेताओ के आने का सिलसिला शुरू हुआ। वाजपेयी आईसीयू में हैं और उनका डायलिसिस चल रहा है।

वाजपेयी को नियमित परीक्षण के लिए किया था भर्ती
राहुल के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, पीएम मोदी, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह अस्पताल पहुंचे और वाजपई का हाल जाना। अस्पताल ने अपने बयान में कहा कि वरिष्ठ नेता की हालत स्थिर है और परीक्षण किया जा रहा है एम्स ने एक बयान जारी कर कहा कि उनकी हालत स्थिर है। एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया की देखरेख में चिकित्सकों का एक दल परीक्षण कर रहा है गुलेरिया पलमोनोलॉजिस्ट हैं और कई सालों से वाजपेयी के निजी चिकित्सक रहे है केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी.नड्डा ने भी कहा कि वाजपेयी को नियमित परीक्षण के लिए भर्ती कराया गया है।
 


Share
Bulletin