समलैंगिक संबंध प्राकृतिक है : मुकुल रोहतगी

समलैंगिक संबंध प्राकृतिक है : मुकुल रोहतगी

देश में लम्बे समय से धारा 377 पर चल रही बहस में आज सुप्रीम कोर्ट में ऐतिहासिक फैसला आना है जिसके अनुसार यह निर्धारित होगा कि इन मामलों में समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी से बाहर रखा जाएगा या अपराध की श्रेणी के अंतर्गत इस बारे में कोर्ट में कुछ देर पहले ही याचिकाकर्ता की तरफ से कोर्ट में उपस्तिथ मुकुल रोहतगी ने कहा है कि यह प्राकृतिक है

मुकुल रोहतगी ने कहा धारा 377 किसी के मानवाधिकारों का उल्लंघन है यह मुद्दा केवल यौन अनुकूलन से संबंधित है और इसका लिंग से कोई लेना-देना नहीं है जैसे-जैसे समाज बदलता है मूल्य बदलते हैं हम कह सकते हैं कि 160 साल पहले जो नैतिक था वो अब नैतिक नहीं हो सकता है।

आपको बता दें सुप्रीम कोर्ट में चल रही बहस का मुख्य कारण है समलैंगिक संबंधों पर जब कोई आपसी सहमति से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे आरोपी माना जाए या नहीं इन मामलों में धारा 377 के अनुसार 10 साल की कैद है वहीं जमानत का कोई रास्ता नहीं वहीं पुलिस को यह कानून कुछ विशेष अधिकार मुहैया कराता है जिसके अनुसार पुलिस बिना किसी वारंट के इस मामले के आरोपी को पकड़ सकती है।


Share
Bulletin