जिस्मफरोशी के धंधे में बांछड़ा समुदाय

जिस्मफरोशी के धंधे में बांछड़ा समुदाय

नीमच। देश में बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना के नारों से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। लेकिन मध्यप्रदेश के मंदसौर नीमच में लड़कियों के जिस्मफरोशी का काम रूकने के नाम नहीं ले रहा हैं। 12 से 15 साल की लड़कियां भी इस काम में लगी हुई है। इन जिलों में बांछड़ा समुदाय के लोग रहते है, जो परम्परागत रूप से जिस्मफरोशी का काम करते आ रहे है। इस समुदाय का नियम है कि कोई भी बांछड़ा समुदाय का लड़का-लड़की प्रेम या कोई संबंध नही बना सकते है। यदि ऐसा करने की कोशिश भी कोई करता है तो उसे जमकर मारा पिटा जाता है।

दरअसल, मंदसौर के नाहरगढ़ थाना क्षेत्र में एक दसवीं क्लास का नाबालिग लड़का जिस्मफरोशी के इन अड्डों के सामने से जा रहा था जिसे लडकियों ने इशारा करके बुला लिया, लड़के को पास से देख कर लडकियों ने पहचान लिया की वह भी उन्ही के समुदाय का है, उस लड़के और उसके साथी को जबरन कमरे में बंद करके मारपीट की गई और उसके हाथ पैर पकड़ कर उसके बाल काटकर, विडियों बनाकर 50 हजार रुपए की मांग की गई। बंधक बनाए लड़के ने 50 हजार रूपये के लिए अपने घर फोन किया। इस पर लड़के का भाई पुलिस को ले कर आ गया। पुलिस में इस मामले की रिपोर्ट की और

नाहरगढ़ पुलिस ने मामला दर्ज करके नाबालिग लड़के के साथ मारपीट करने और उसके जबरन बाल काटने वाले लड़कों और महिलाओं पर प्रकरण दर्ज कर लिया है। लेकिन इस मामले के पीछे कई बड़े ऐसे खुलासे हुए है जो शर्मनाक और अमानवीय है। इस घटना के बाद जो खुलासे हुए वो दिल दहला देने वाले है। नीमच और रतलाम जिले से महू नीमच फोरलेन हाइवे के पास चल रहे इस जिस्मफरोशी ने सरकार की बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना को विफल कर दिया है।


Share
Bulletin