मध्यप्रदेश में पहुंचे नक्सली, बालाघाट प्रशासन ने किया हाई अलर्ट

मध्यप्रदेश में पहुंचे नक्सली, बालाघाट प्रशासन ने किया हाई अलर्ट

बालाघाट। सुकमा में पिछले दिनों हुए हमले के बाद नक्सलियों ने अब मध्यप्रदेश का रूख किया है। महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ से सटे प्रदेश के बालाघट जिले में नक्सलियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराना शुरू कर दी है। ग्रामीण इलाकों में पर्चे चिपका कर नक्सलियों ने आने वाले दिनों में बड़ी वारदात करने व तेंदूपत्ता तुड़ाई को प्रभावित करने के संकेत दे दिए हैं। बालाघाट एसपी अमित सांघी ने भी सीमवर्ती इलाकों में घुसपैठ की कोशिशें होने की संभावना से इनकार नहीं किया है, जिसे देखते हुए पूरे बालाघाट जिले में हाई अलर्ट कर दिया गया है।

नक्सलियों की ताजा हलचल को देखते हुए बालाघाट पुलिस हाई अलर्ट है. सीमावर्ती क्षेत्र में बार्डर सीलिंग के साथ ही सर्चिंग की जा रही है। जिले में हॉक फोर्स के अलावा जिला पुलिस बल व सीआरपीएफ भी तैनात है. नक्सलियों की गतिविधि पूर्व वर्षो की अपेक्षा कम है, लेकिन उनकी उपस्थिति से इनकार नहीं किया जा सकता है. यही कारण है कि पुलिस के जवान सीमा क्षेत्र के अलावा ग्रामीण अंचल में भी मुस्तैदी से डटे हुए हैं।सूत्रों के मुताबिक इस समय नक्सली ग्रामीण अंचल में सक्रिय हैं और पर्चे चस्पा कर या वितरित कर अपनी उपस्थिति दिखा रहे हैं. पर्चे में शासन की नीति का विरोध व ग्रामीण अंचल में होने वाले कार्यों में मजदूरों के शोषण की बात कही जा रही है. नक्सलियों की सक्रियता से क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में भी इस समय सन्नाटा पसरा हुआ है.

हालांकि नक्सलियों की बालाघाट के ग्रामीण अंचलों में ताजा हलचल को तेंदूपत्ता तुड़ाई के सीजन से भी जोड़कर देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि सीजन शुरू होने से पहले समर्थन वाले इलाकों से नक्सली अपनी मांगों को उठाकर सरकार पर दबाव डालने का प्रयास कर सकते हैं. यहां का कुछ सीमावर्ती क्षेत्र घना जंगल होने के अलावा पहाड़ी से घिरा हुआ हैं। ऊंचे-नीचे पहाड़ी व जगंली क्षेत्र होने से पुलिस के लिए उन तक पहुंचना चुनौती रहता है. इसी का फायदा उठाकर नक्सली कुछ समय के लिए पनाह लेने बालाघाट आ जाते हैं।

 


Share
Bulletin