बरेली : कर्ज से परेशान होकर किसान ने की आत्महत्या

बरेली : कर्ज से परेशान होकर किसान ने की आत्महत्या

मप्र में किसानों की आत्महत्या रुकने का नाम नही ले रही है एक बार फिर एक अन्नदाता को बैंकों और साहूकारो के कर्ज से तंग आकर अपनी जीवन लीला समाप्त करनी पड़ी, 2 बेटी और एक बेटा छोड़ दिलीप सिंह ने आत्महत्या कर ली है। बैंक ऑफ इंडिया से 2 लाख 22 हजार की के सी सी थी अपनी बेटी की शादी के समय फसल का पैसा नही मिलना और बैंक द्वारा पूरा पैसा कर्ज का काट लिया गया जिससे परेशान होकर किसान दिलीप सिंह ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। बता देंं रायसेन जिले में किसानो की मौत रुकने का नाम नही ले रही है 1 जून से किसान आंदोलन की सुगबुगाहट से सरकार की नींद उड़ी हुई है ऐसे में किसान की मौत कही उग्र रूप धारण ना कर लें। 

रायसेन जिले के बरेली थाने के ग्राम नयागांव के रहने बाले 5 एकड़ जमीन के मालिक 45 वर्षीय  किसान दिलीप सिंह धाकड़ ने सोमवार शाम को अपने खेत पर कीटनाशक दवा पी ली जिससे देर रात किसान को उल्टियां हुई परिजन दिलीप को बरेली अस्पताल लेकर आये जहां भोपाल रेफर किया भोपाल पहुंचने से पहले किसान ने दम तोड़ दिया मंगलवार को शाम 6 बजे किसान का अंतिम संस्कार प्रशासन द्वारा करवा दिया गया, परिजनों ने आरोप लगाया है कि गांव के दवंगो से कर्ज लिया था जिसका तकाजा लगाते थे यह भी एक वजह आत्महत्या की हो सकती है दिलीप के 3 बच्चे है 2 बेटी ओर एक बेटा। बड़ी बेटी की इस साल शादी की थी उसका भी कुछ कर्ज था 4 साल पहले ट्रेक्टर लिया था उसका कर्ज भी बकाया था ट्रेक्टर फाइनांस कम्पनी भी किसान को परेशान करती थी।

विमलेश राय थाना बरेली का कहना है कि 28 तारीख को अस्पताल बरेली से mlc आयी किसान ने जहर पी लिया है भोपाल रेफर किया गया, जहां उसकी मौत हो गयी सभी ग्रामीण किसान  है अभी ज्यादा जानकारी नही मिली है जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

राजेन्द्र धाकड़ किसान के बेटे का कहना है कि जमीन बेच रहे थे लेकिन बिकी नहीं कर्ज देना था इसलिए दवा पी ली। मृतक के भाई का कहना है कि कर्ज वजह है सोसायटी में बैंक से पूरा पैसा नहीं मिला 20 हजार रुपये मिले थे लड़की की शादी में भी कर्ज हो गया था।


Share
Bulletin