पेट्रोल व डीजल के दाम बढ़ने से वाहन चालक परेशान, हड़ताल करने पर हुए मजबूर

पेट्रोल व डीजल के दाम बढ़ने से वाहन चालक परेशान, हड़ताल करने पर हुए मजबूर

पेट्रोल डीजल के दाम लगातार बढ़ने से लोगों की जिंदगी पर खासा असर पड़ा है बीते चार माह में ही पेट्रोल के दामों में 6 रुपए और डीजल के दाम में 7.98 रुपए की वृद्धि हुई है। जिससे वाहन चालक आर्थिक रूप से परेशान है। इधर लगातार डीजल के दाम बढ़ने से बस मालिक भी परेशान होकर किराया बढ़ाने के लिए हड़ताल की राह पर चलने को मजबूर हो रहे है। गौरतलब है कि आज घर-घर में दो पहिया व चार पहिया वाहन हो चुके है। सड़कों पर हजारों वाहन दौड़ रहे है। आवागमन की आवश्यकता के चलते पेट्रोल व डीजल खरीदना लोगों की मजबूरी है। परंतु दिनोंदिन पेट्रोल व डीजल पर हो रही मूल्य वृद्धि ने लोगों की कमर तोड़ दी है। 
ट्रांसपोर्ट व्यवसाय पर पड़ रहा असर : 
शहर के ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों का कहना है कि लगातार बढ़ रही महंगाई से ट्रांसपोर्ट व्यवसाय बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। यदि इसी तरह बार बार डीजल व पेट्रोल के दाम बढ़ते रहे तो यह व्यवसाय खत्म होने की कगार पर पहुंच जाएगा। क्योंकि टोल टैक्स भी पांच रुपए प्रति किलोमीटर लग रहा है। कई वाहन 3 रुपए प्रति एवरेज के हिसाब से टैक्स दे रहे हैं। उस पर जीएसटी का खर्च अलग हैं इस प्रकार सब मिलाकर लगभग 50 रुपए प्रति किलोमीटर का भार ट्रांसपोर्ट व्यवसाय पर पड़ रहा है। ऐसे में लगातार बढ़ रहे डीजल पेट्रोल के दामों से ट्रांस्पोर्टरों की परेशानी और बढ़ा दी है। इसके बावजूद भी सरकार कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है। 
तो क्या यही अच्छे दिन है : 
शहर के युवा अमित का कहना है कि बड़ी उम्मीदाें के साथ उन्होंने अपना अमूल्य वोट देकर भाजपा की सराकर बनाई थी। भाजपा नेताओं ने भी जनता से अच्छे दिन के वायदे किए थे। लेकिन दिनों दिन महंगाई बेलगाम हाेती जा रही है। क्या यही सरकार के अच्छे दिन है। बढ़ती महंगाई ने मध्यम श्रेणी के परिवारों की कमर तोड़कर रख दी है। 


Share
Bulletin