खण्डवा : नये तरीके का स्वागत, फूलमाला की बजाए कुपोषित बच्चों में बांटी गयी बिस्किट्स

खण्डवा : नये तरीके का स्वागत, फूलमाला की बजाए कुपोषित बच्चों में बांटी गयी बिस्किट्स

खण्डवा के कलेक्टर विशेष गढ़पाले द्वारा जिले के सभी अधिकारियों से निवेदन किया कि उनका स्वागत नहीं किया जाये शासकीय सेवक का सम्मान जनता की सेवा होता है लेकिन फिर भी वह उनका स्वागत करना चाहते हैं तो फूल मालाओं की बजाय बिस्किट से स्वागत किया जाए व उन बिस्किट्स को आंगनवाड़ी में बच्चों में वितरित किया जाए जिससे बिस्किट का उपयोग कुपोषित बच्चों के लिए किया जा सके।

हम आपको बता दें की गढ़पाले ने कुछ समय पूर्व ही खण्डवा ज्वाईन किया है खंडवा जिलाधीश विशेष गढ़पाले नें कहा कि एसा करनें से उनके सम्मान में किया गया निजी व्यय का सदुपयोग किया जा सकता है कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने कहा कि अक्सर देखने में आता है कि जब वह जिले में कहीं भी दौरे पर जाते हैं तो उस क्षेत्र के लोग फूल मालाओं एवं पुष्प गुछ से उनका स्वागत करते हैं कलेक्टर गढ़पाले ने कहा कि वह स्वागत प्रथा के पक्ष में नहीं है।

लेकिन शायद लोग सम्मान के तहत करते हैं जिसमें दी गई फूल मालाएँ व पुष्प गुच्छ सहित अन्य सामग्री में किया गया व्यय व्यर्थ चला जाता है लेकिन बिस्किट जैसी सामग्री का कुपोषित बच्चों को देकर उसका सदुपयोग किया जा सकता है जिलाधीश द्वारा जैसे ही स्वागत फूल मालाओं की बजाय बिस्किट से करने की खबर मीडिया में आई तत्काल खंडवा की मीडिया के द्वारा इस नवाचार का स्वागत करते हुए खंडवा कलेक्टर को बिस्किट के पैकेट खंडवा जनसंपर्क अधिकारी बृजेंद्र शर्मा  के माध्यम से भेंट किए।

कलेक्टर द्वारा भेंट किए गए बिस्किट महिला बाल विकास अधिकारी को दिए गए जिसे जिला अस्पताल में जाकर बाल शक्ति केंद्र में कुपोषित बच्चों को बांट दिया गया कलेक्टर विशेष गढ़पाले की यह विशेष पहल उन्हें उनके नाम के अनुरूप विशेष बनाती है सभी ने इसका स्वागत किया।

 


Share
Bulletin