अधिकारी ने सोशल मीडिया पर डाली भड़काऊ पोस्ट, निलम्बन की मांग को लेकर दिया ज्ञापन

अधिकारी ने सोशल मीडिया पर डाली भड़काऊ पोस्ट, निलम्बन की मांग को लेकर दिया ज्ञापन

एमपी में दलित आंदोलन का विवाद थमा नही है सोशल मीडिया पर विवाद जारी है, ताजा मामला जिले के एक राजपत्रित अधिकारी से जुड़ा है सागर जिले के खुरई के महिला बाल विकास विभाग के बाल विकास परियोजना अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग एकीकृत वाल विकास परियोजना अधिकारी एस के शिंदे ने अपने ऑफिसियल व्हाट्सप में पिछले दिनों तुलसीदास और रामायण के बारे में अनर्गल पोस्ट डाली। इसी ग्रुप में पहले सरकारी मेसेज पोस्ट किया इसी के साथ जातिगत भावना भड़काने वाली और धार्मिक ग्रंथ रामायण के संबंध में चार पोस्ट डाली। उधर इस घटना से नाराज हिन्दू संगठनों ने पुलिस को एक ज्ञापन देकर कार्यवाही की मांग की ​है।

इस मामले में अधिकारी शिंदे ने सफाई दी है कि धोखे से पोस्ट हो गई। इसके वावजूद इस अधिकारी ने किसी तरह की भूल ग्रुप में नही स्वीकारी। पोस्ट पर न तो क्षमा मांगी और न ही डिलेट किया। पोस्ट की भाषा इतनी अभद्र है कि उसे यहाँ शेयर भी नही किया जा सकता। अब यह मामला तूल पकड़ने लगा है आरक्षित वर्ग के इस अधिकारी के खिलाफ सवर्ण वर्ग के लोग सामने आ गए है। उधर कर्मचारी तबके का मानना है कि यह सरकारी आचरण सहिंता के विपरीत है।

हिन्दू संगठन विहिप, शिवसेना, गौ रक्षा संगठन आदि के प्रतिनिधियों ने आज पुलिस को ज्ञापन दिया और कार्यवाही की मांग की। एएसपी विक्रमजीत सिंह के मुताबिक आवेदन की जांचकर कार्यवाही की जाएगी।
 


Share
Bulletin