मजदूरी की मांग को लेकर अनोखा विरोध, रेशम उत्पादक किसानों ने निकाली रेशम विभाग की शव यात्रा

मजदूरी की मांग को लेकर अनोखा विरोध, रेशम उत्पादक किसानों ने निकाली रेशम विभाग की शव यात्रा

खंडवा में अपनी मजदूरी के भुगतान की मांग को लेकर विगत 7 दिनों से जिला पंचायत कार्यालय में धरने पर बैठे रेशम उत्पादक किसानों ने अनोखा विरोध प्रदर्शन किया रेशम विभाग की अर्थी निकालकर अपना विरोध दर्ज कराते हुए  जिला पंचायत परिसर में विगत 7 दिनों से धरने पर बैठे रेशम उत्पादक किसानों ने कल CM की फोटो लगी फुटबॉल से खेले मजदूर आज विरोध का एक नया तरीका अपनाते हुए प्रशासन को मुर्दा बता कर शव यात्रा निकाली।

शव यात्रा को जिला पंचायत से शुरू कर तीन पुलिया पर गंदे नाले का पानी पिलाकर मुक्तिधाम ले जाया गया जिसमें की सैकड़ों की तादाद में पीड़ित रेशम उत्पादक मजदूर शामिल हुए यातायात प्रभावित ना हो इसके लिए पुलिस के जवान भी पूरे समय तैनात रहे मजदूरी के भुगतान को लेकर धरने पर बैठे रेशम उत्पादक किसानों ने कहा कि 282 किसान 100 से अधिक बार ज्ञापन दे चुके हैं।

दिल्ली भोपाल तक गए लेकिन हमारी 2 करोड़ 38 लाख की मजदूरी का तीन वर्ष बाद भी आज तक कुछ नहीं हुआ कलेक्टर SDM तहसीलदार सहित दिल्ली-भोपाल देवास इंदौर तक करीब 100 से अधिक बार ज्ञापन दे चुके हैं लेकिन अभी तक हमें मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया दिल्ली तक जाकर राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा अन्ना हजारे के आंदोलन में शामिल होकर मांग की लेकिन प्रशासनिक शिथिलता कहें या लापरवाही आज तक मजदूरों को मजदूरी नहीं मिल सका जिला कलेक्टर गढ़पाले से बात करने पर उन्होंने बताया कि हम किसानों के सम्पर्क में है उनसे धरना समाप्त करने की बात की लेकिन वो वर्ष 2015 के  भुगतान को लेकर अड़े है जो कि मनरेगा परिषद स्तर का मामला।

 


Share
Bulletin