महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र

महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ हो रहे यौन अपराध थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश में एक हैरान करने वाली वारदात सामने आई थी। इस मामले में मुरादाबाद में एक 13 साल की नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आयी थी। इस मामले में महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है।

13 साल की बेटी के सामूहिक बलात्कार के बारे में सीएम योगी को कराया अवगत
अपने पत्र में उन्होंने लिखा, इस पत्र के माध्यम से मैं आपको उत्तर प्रदेश की एक 13 साल की बेटी के सामूहिक बलात्कार के बारे में अवगत कराना चाहती हूं। जिसकी शिकायत दिल्ली महिला आयोग में हासिल हुई है। ये अत्यंत दुखद घटना कुछ ही दिन पहले 30 जून 2019 की है ।जब एक पूरा परिवार अपने 12 सदस्यों के साथ मुरादाबाद के पास स्थित एक मंदिर से लौट रहा था। परिवार के सभी लोग मंदिर के पास बनी एक धर्मशाला में रुके थे। तभी कुछ अज्ञात लोग उनके पास आए और उनको प्लास्टिक के ग्लास में कोल्ड ड्रिंक पीने को दी। उनकी दी हुई कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद परिवार के सभी लोग बेहोश हो गए। अगले दिन पूरे परिवार को मुरादाबाद के दीनदयाल अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहां उनको होश आया।

13 साल की मासूम के साथ हुआ दुष्कर्म
पत्र में आगे स्वाती ने लिखा है, जब शिकायतकर्ता अपने पति और बच्चों के साथ उत्तर प्रदेश में अपने घर पहुंच गई। तब उन्हें पता चला की वारदात के समय से उनकी 13 साल की बेटी के पेट में बहुत तेज दर्द हो रहा है। ये देख वो तुरंत लड़की को दिल्ली के जीटीबी अस्पताल लेकर आए और उसे यहां भर्ती कराया। यहां पर डॉक्टरों ने शिकायतकर्ता को बताया कि उनकी बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ है जिससे उसके गुप्तांगों में गंभीर चोट आई है। बच्ची अभी गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती है जहां उसका कई घंटों तक ऑपरेशन हुआ है। मगर शिकायतकर्ता के जरिए बहुत अनुरोध करने पर भी उत्तर प्रदेश पुलिस इस मामले में परिवार का बयान दर्ज करने और पोक्सो के तहत एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी कर रही है।

अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग
स्वाती ने आखिर में लिखा की, मैं बच्ची और उसके परिवार से जाकर मिली हूं और उसकी बिगड़ती हालत देखकर बहुत चिंतित हूं। अपराध की गंभीरता और 13 साल की बच्ची की नाजुक हालत को देखते हुए मैं आपसे यह अनुरोध करती हूं की इस मामले में कानून के उचित प्रावधानों के तहत जल्द से जल्द FIR दर्ज की जाए और अपराधियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। चूंकि परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है, इसलिए आपसे यह भी अनुरोध है कि उनको उचित मुआवजा दिलवाया जाए। दिल्ली महिला आयोग आप से इस मामले में तुरंत सहयोग एवं कार्यवाही की अपेक्षा रखता है।


Share
Bulletin