शिवमय हुई महाकाल की नगरी, उमड़ा जनसैलाब

शिवमय हुई महाकाल की नगरी, उमड़ा जनसैलाब

उज्जैन। शिव की भक्ति का त्यौहार शिवरात्री तारीखों के संशय के बीच आज उज्जैन के  महाकाल मंदिर में मनाया गया। अल सुबह 2 बजे होने वाली भस्म आरती के लिए श्रद्धालु दूर दूर से उज्जैन पंहुचे थे।भस्म आरती में बाबा महाकाल का विशेष पूजन अर्चन किया गया, जिसमें भगवान शिव को चन्दन का लेप लगाया गया, जिसके बाद महाकाल पर भांग से शृंगार किया गया। महाकाल को दूल्हे के रूप में पगड़ी पहनाई गयी।  इस अवसर पर महाकाल मंदिर में शिव भक्तों की खासी भीड़ थी।

देर रात से ही आने लगे श्रद्धालु...

बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकाल मंदिर में आज 13 फरवरी को शिवरात्रि का त्यौहार मनाया गया। शिवरात्रि पर उज्जैन शहर शिव मय दिखाई दिया। इस महापर्व के उपलक्ष्य में देर रात से ही महिला पुरुषों की भीड़ दिखाई दी। हालांकि तारीखों के संशय के चलते अपेक्षा कृत भीड़ कम थी, लेकिन बाबा के दरबार में शीष झुकाने वाले श्रद्धालुओं की भी कमी नहीं थी। बड़ी संख्या में श्रद्धालु मंदिर पंहुचे थे। 

महाकाल दिखाई देते हैं दूल्हे के रुप में...

उज्जैन शहर में शिवरात्रि का अलग ही महत्व है। क्योंकि उज्जैन के राजा महाकाल को शिवरात्रि पर दूल्हा बनाया जाता है, और जिस तरह नवरात्री होती है उसी तरह शिवरात्रि के 8 दिन पहले से शिव नवरात्र शुरु हो जाते हैं। और आज बाबा महाकाल को दूल्हे की तरह सजाया जाता है।जिसके चलते भक्त बाबा महाकाल की एक झलक पाने को आतुर दिखाई दिए।  

आज रात होगा चतुर्दशी का शुभारंभ....

पंचांग के अनुसार आज 13 फरवरी की रात 10 बजकर 35 मिनट पर चतुर्दशी तिथि का शुभारंभ होगा, वहीं 14 फरवरी की रात 12 बजकर 46 मिनट तक चतुर्दशी रहेगी। ऐसे में दोनों ही दिन श्रद्धालु भोलेनाथ का जलाभिषेक कर सकते हैं। गौरतलब हेै कि दो दिन शिवरात्रि मनाने का ऐसा दुर्लभ संयोग 21 साल बाद आया है। 

 


Share
Bulletin