3 साल से स्वास्थ्य केन्द्र भवन निर्माण के बाद भी लटका ताला

3 साल से स्वास्थ्य केन्द्र भवन निर्माण के बाद भी लटका ताला

सरकार ने जनता की सुविधा के लिए अनेकों योजनाएं बनाई हैं पर यह योजनाएं प्रशासनिक उदासीनता के कारण दम तोड़ रही हैं लोगों की स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए गांवों में सरकार द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बनाए गए और प्रत्येक 1000 आबादी पर एक उप-स्वास्थ्य केन्द्र का निर्माण किया गया जहां लोगों को प्राथमिक चिकित्सा, टीकाकरण के साथ प्रसव की सुविधा भी उपलब्ध होनी चाहिए लेकिन धरातल पर यह एक स्वप्न मात्र बनकर रह गया है।

कोटा जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत  मोहली ग्राम पंचायत कोनचरा व बिलासपुर सांसद लखनलाल साहू का आदर्श ग्राम मिट्ठू नवागांव जहाँ स्वास्थ्य केन्द्र का भवन निर्माण के बाद भी उप-स्वास्थ्य केन्द्र पर लगा यह ताला जिले व ब्लाक के जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता को साफतौर पर दर्शा रहा है जिसका खामियाजा भोले भाले ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है।

सांसद आदर्श ग्राम मिट्ठू नवागांव ही नही कोटा ब्लाक में  ऐसे ही और कई स्वास्थ्य केन्द्रों का निमार्ण हुआ है जो आज के डेट में  जर्जर होने की स्थिति में है स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में जब  ग्रामीणों से पूछा गया तो उनका  कहना है की नया स्वास्थ्य केन्द्र तो 3 साल हो गये बने लेकिन बनने के बाद ना कोई  अधिकारी और ना ही कोई डॉक्टर अब तक यहाँ  झांकने तक नही पहुँचे।

जिसके कारण ग्रामीणों को 25 किलोमीटर दूर कोटा सवास्थ्य केंद्र  जाना पड़ता है जिससे काफी समस्या होती वही जब मीडिया ने इस मामले में बिलासपुर कलेक्टर पी दयानंद से इसके बारे में जानकारी चाही तो जल्द ही सवास्थ्य व्यवस्था कर स्वास्थ्य केन्द्रों को सुचारू रूप से चालू कराने की बात कही चिकित्सा अधिकारी भले ही अपने अधीनस्थों की कार्यप्रणाली से अनभिज्ञ दिखाई दिए लेकिन इस उपकेन्द्र पर व्याप्त दुर्व्यवस्थाओं का खामियाजा सीधा बेबस ग्रामीणों को आए दिन भुगतना पड़ रहा है जिसके ज़िम्मेदार सरकारी तंत्र के यह कार्यपालक हैं। 

 


Share
Bulletin