लोक सुराज अभियान: सीएम रमन सिंह ने की विकास कार्यों की समीक्षा।

लोक सुराज अभियान: सीएम रमन सिंह ने की विकास कार्यों की समीक्षा।

सीएम रमन सिंह ने लोक सुराज अभियान में प्राप्त आवेदनों के गुणवत्तापूर्ण निराकरण की जरूरत पर बल दिया, उन्होंने यह भी कहा कि शासन की विभिन्न योजनाओं का मैदानी स्तर पर प्रचार-प्रसार उन योजनाओं से संबंधित विभागों के मैदानी अधिकारियों और कर्मचारियों की भी जिम्मेदारी है। सीएम ने प्रत्येक विभाग के अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि उनके विभाग के जिला, विकासखण्ड और ग्राम पंचायत स्तर पर कार्यरत प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी ग्राम सभाओं में तथा अन्य अवसरों पर भी लोगों को अपनी विभागीय योजनाओं के बारे में बताएं और उन्हें योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

राज्य और केंद्र द्वारा प्रवर्तित योजनाओं की हुई समीक्षा 
मुख्यमंत्री ने बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना, सौभाग्य योजना, जिला खनिज निधि, स्वच्छ भारत मिशन, मनरेगा, उज्जवला योजना, सौर सुजला योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं राज्य और केंद्र द्वारा प्रवर्तित अन्य योजनाओं की समीक्षा की। योजनाओं के प्रचार-प्रसार की जरूरत पर बल देते हुए सीएम ने कहा कि जानकारी के अभाव में कई जरूरतमंद उनका लाभ नहीं उठा पाते हैं। उन्होंने घरों और मजरों-टोलों में बिजली पहुंचाने की सौभाग्य योजना का उदाहरण दिया और इस प्रकार की योजनाओं के प्रचार प्रसार के लिये शिविर लगाने के भी निर्देश दिये। डॉ. सिंह ने कलेक्टोरेट परिसर से सौभाग्य रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया वहीं समीक्षा बैठक के दौरान लोक सुराज में प्राप्त आवेदन और निराकरण की जानकारी मुख्यमंत्री को दी गई।

लोक सुराज अभियान में मिले 2 लाख 27 हजार आवेदन 
कलेक्टर पी दयानंद ने बताया कि लोक सुराज में 2 लाख 27 हजार आवेदन मिले हैं। जिनमें से लगभग सभी शिकायतों का निराकरण किया जा चुका है। राशन कार्ड हेतु पांच हजार आवेदनों में से चार हजार से ज्यादा लोगों के नाम जोड़े जा चुके हैं। ट्रांसफॉर्मर एवं बिजली के खंभों हेतु प्राप्त 1240 आवेदनों में से 940 की स्वीकृति दी जा चुकी हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना में 15 हजार 540 के लक्ष्य के सापेक्ष 11 हजार 359 आवास पूर्ण हो चुके हैं। 

हितग्राहियों को सौ फीसदी राशि का किया स्थानांतरण
स्वच्छ भारत मिशन के संबंध में मुंगेली कलेक्टर एन एन एक्का ने बताया कि हितग्राहियों को सौ फीसदी राशि का स्थानांतरण हो चुका है। वहीं बिलासपुर में 84 फीसदी राशि का स्थानांतरण हितग्राहियों के खाते में हो चुका है। बिलासपुर कलेक्टर ने बताया कि मिशन के तहत बनाये गये टॉयलेट का 90 फीसदी लोग उपयोग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने कलेक्टरों को जिला खनिज निधि का भरपूर उपयोग करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि स्वीकृत राशि से ज्यादा की कार्य योजनाएं बनाएं जिससे काम में गति मिलेगी। विकास कार्यों में बजट की कमी राज्य सरकार की तरफ से नहीं होगी। 

जिला खनिज निधि के ​लिए बनाई 688 करोड़ की कार्ययोजना
बिलासपुर कलेक्टर पी दयानंद ने मुख्यमंत्री डॉ सिंह को बताया कि जिला खनिज निधि के ​लिए 688 करोड़ की कार्ययोजना बनाई है जिसके अंतर्गत दिव्यांग आवासीय विद्यालय, बंद नल-जल योजनाओं की बेहतरी, हमर जंगल हमर आजीविका के तहत रोजगार, जॉगर्स पार्क का निर्माण कराया जायेगा। इसके अलावा नवाचार के तहत प्रत्येक सप्ताह टीएल मीटिंग में दूरस्थ ब्लॉक से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से योजनाओं एवं लंबित प्रकरणों की समीक्षा की जाती है। जिससे समय और धन दोनों की बचत होती है।

मुख्यमंत्री ने ली मजदूरी भुगतान की जानकारी  
मुख्यमंत्री ने मनरेगा के तहत हो रहे मजदूरी भुगतान की जानकारी दोनों कलेक्टर से ली। बिलासपुर कलेक्टर ने बताया कि इस वर्ष 92.84 करोड़ की राशि का भुगतान हो चुका है वहीं मुंगेली कलेक्टर एक्का ने बताया कि 63.23 करोड़ की राशि का भुगतान किया जा चुका है। बिलासपुर में मुख्यमंत्री समग्र विकास योजना अंतर्गत 28 और मुंगेली में 16 कार्य पूर्ण हो चुके हैं। सौभाग्य योजना के बारे में मुख्यमंत्री ने दोनों कलेक्टरों को निर्देश दिये कि योजना का ज्यादा से ज्यादा प्रचार प्रसार किया जाये। बिलासपुर में अब तक 4 हजार 848 और मुंगेली में 2 हजार 36 कनेक्सन दिये जा चुके हैं। 

सीएम ने की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा करते हुये डॉ सिंह ने कहा कि प्रभावित किसानों की जानकारी भेजने में पूरी सावधानी बरती जाए। बीमा कंपनी को जानकारी भेजने में कहीं भी गलती नहीं होनी चाहिये। सौर सुजला योजना अंतर्गत इस वर्ष बिलासपुर 547 पंप और मुंगेली में 998 पंप स्थापित किये जा चुके हैं।
 
सीएम ने विद्यार्थियों को किया सम्मानित
समीक्षा बैठक के बाद मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने बरगीकला के संवरा जाति के विद्यार्थियों को सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि ये बच्चे सांप दिखाकर आर्थिक स्थिति को ठीक करने की कोशिश करते थे लेकिन प्रशासन ने बच्चों और उनके परिजनों को बच्चों को स्कूल भेजने के लिये प्रेरित किया और अब ये बच्चे मन लगाकर स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं। डॉ सिंह ने मंगला ग्राम के तीन परिवारों को सौभाग्य योजना के तहत बिजली कनेक्शन का प्रमाण पत्र भी सौंपा।

बैठक में उपस्थित रहे ये अधिकारी
नगरीय प्रशासन तथा वाणिज्य और उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल, लोकसभा सांसद लखनलाल साहू, प्रदेश सरकार मुख्य सचिव अजय सिंह, मुख्यमंत्री प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, लोक निर्माण विभाग सचिव सुबोध कुमार सिंह, बिलासपुर संभाग कमिश्नर टी.सी. महावर और अन्य संबंधित विभागों के राज्य, संभाग तथा जिला स्तर के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।
 


Share
Bulletin