होशंगाबाद जिले में कलाकारों ने किया नाटक कोमल गांधार का मंचन

होशंगाबाद जिले में कलाकारों ने किया नाटक कोमल गांधार का मंचन

होशंगाबाद जिले की सिवनी मालवा में जनसेवा शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्था द्वारा शासकीय कन्या शाला सभागार में डॉ शंकर शेष के नाटक कोमल गांधार का मंचन जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष भरत सिंह राजपूत मंडी अध्यक्ष रामेश्वर पटेल वरिष्ठ नेता पंडित बालकृष्ण शर्मा की उपस्थिति में किया गया।

अनवरत थिएटर ग्रुप इंदौर के कलाकारों द्वारा महाभारत की कहानी को अलग ढंग से मंच पर लेकर आएं गांधारी की नजर से महाभारत दिखाने की कोशिश की गई थी। नाटक में लेखक ने बताया है धोखे से करवाई गई शादी से गांधारी का मन दुखी होता है और वंश को कभी ना देखने की कसम पूरी करने के लिए आंखों पर पट्टी बांधी।

नाटक का निर्देशन नीलेश उपाध्याय द्वारा किया गया जिसमें अभिषेक शर्मा द्वारा धृतराष्ट्र, उर्मि शर्मा द्वारा गांधारी, अर्पण पाटोदी द्वारा दुर्योधन अरुणिमा गर्ग द्वारा दासी एवं अरुण दादाजी ने शकुनि, ओर सागर जोशी, संजय तपन शर्मा द्वारा शानदार किरदार प्रस्तुत किया।
नाटक में हजारों साल पहले जो हुआ था उससे आज अछूता नहीं है यह सोचकर लेखक ने कहानी लिखी और कलाकारों ने खूबसूरती से मंच पर उतारा कुंवारी गांधारी से होती है जो हर लड़की की तरह अपनी शादी के सपने बुनती है लेकिन उसे असल सच्चाई का पता नहीं होता उसे हस्तिनापुर शादी के लिए ले जाया जाता है पता नहीं होता धृतराष्ट्र है जिससे उनकी शादी होने वाली है वह देख नहीं सकते उसी के बाद असल कहानी शुरू होती है गांधारी भी पति की ही तरह अपनी आंखों पर पट्टी बांधने का फैसला करती है।
 


Share
Bulletin