खतरनाक भवनों पर होगी कार्यवाही, शहर के 5 दर्जन से ज्यादा मकानों पर निगम की नजर

खतरनाक भवनों पर होगी कार्यवाही, शहर के 5 दर्जन से ज्यादा मकानों पर निगम की नजर

बारिश के मौसम के चलते निगम द्वारा पिछले दिनों जर्जर मकानों पर कार्यवाही कर भूमि दोज किया गया था लेकिन किसान आंदोलन के चलते पुलिस बल नहीं मिलने से खतरनाक भवनों पर निगम की कार्यवाही बंद हो गई थी किसान आंदोलन खत्म होते ही नगर निगम का अमला एक बार फिर खतरनाक जर्जर इमारतों पर अपना बुलडोजर चलाने की कार्यवाही करेगा। 

सरवटे होटल हादसे से सबक लेकर निगम दवरा पिछले दिनों बारिश के मौसम को देखते हुए खतरनाक भवनों को ढहाने की कार्यवाही की थी और शहर की पांच मंजिला जर्जर इमारतों को ढहाया था लेकिन किसान आंदोलन के चलते निगम को पुलिस बल नहीं मिलने के कारण निगम की कार्यवाही अधर में अटकी थी चूंकी किसान आंदोलन खत्म हो चुका है निगम एक बार फिर खतरनाक भवनों पर पुलिस बल के साथ कार्यवाही करेगा निगम अपर आयुक्त देवेंद्र सिंह यादव ने बताया की निगम द्वारा शहर में पांच दर्जन से ज्यादा खतरनाक भवनों को चिन्हित किया गया है एक दो दिन में पुलिस बल मिलते ही इन खतरनाक भवनों पर कार्यवाही की जाएगी। 

गौरतलब है की सरवटे होटल हादसे में दस लोंगो की मोत और दो घायल हो गए थे उसी के बाद स्वराज एक्सप्रेस ने शहर में जर्जर इमारतों की खबर गंभीरता से दिखाई थी जिसके बाद निगम अधिकारियों ने शहर में जर्जर भवनों पर कार्यवाही शुरू की थी चुकी कुछ ही समय में बारिश का मौसम शुरू होना है इसको लेकर निगम द्वारा शहर के सभी खतरनाक भवनों पर कार्यवाही की जाना है।


Share
Bulletin