केवलारीः दहेज के दानव ने ली एक और जान, नवविवाहित की आग से झुलसने पर संदिग्ध मौत

केवलारीः दहेज के दानव ने ली एक और जान, नवविवाहित की आग से झुलसने पर संदिग्ध मौत

अदिल खान - समाज के लिए नासूर बन चुकी दहेज प्रथा ने मानवों को दानव बना दिया है। दहेज के इन्हीं दानवों ने अपने लोभ के चलते एक और जान ले ली है। दहेज के खातिर जलाकर मार देने का सनसनीखेज मामला केवलारी तहसील के उगली थाना अंतर्गत ग्राम जेवनारा में सामने आया है। जहां मंडला जिले के सेमरखापा गांव निवासी नवविवाहिता गायत्री का विवाह 4 माह पूर्व ही जेवनारा (उगली) निवासी महेश नागेश्वर के साथ, पूरे धार्मिक रीति-रिवाज के साथ संपन्न हुआ था। विवाहिता ने अपने वैवाहिक जीवन के कई सपने संजोए थे, लेकिन 4 माह के अंदर ही दीपावली के ठीक 1 दिन पहले उसके सारे सपने उसके साथ जलकर ख़ाक हो गए। गायत्री दीपावली के 1 दिन पहले अपने ससुराल में आग में बुरी तरह झुलस गई। लगभग 90% जल चुकी नवविवाहिता को 108 एंबुलेंस की मदद से बालाघाट जिला अस्पताल पहुंचाया गया। जहां से उसे तत्काल नागपुर रेफर कर दिया गया। नागपुर में इलाज के दौरान 29 अक्टूबर को उसकी मौत हो गई और अगले दिन उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मायके पक्ष ने लगाया ससुराल पक्ष पर दहेज के खातिर हत्या का आरोप

मृतिका के पिता का पहले ही देहांत हो चुका है। उसकी मां और भाइयों ने पति और सास पर दहेज के खातिर जलाकर मार डालने का गंभीर आरोप लगाया है। परिजनों ने बताया कि मृतिका के ससुराल पक्ष द्वारा दहेज के खातिर लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था। पैसे और गाड़ी की लगातार मांग की जा रही थी। यहां तक कि कुछ दिन पूर्व मृतिका गायत्री का मार-मार कर हाथ तोड़ दिया गया था। जिसका इलाज मायके पक्ष द्वारा कराया गया था। परिजनों ने आरोप लगाया कि आखिरकार दहेज के दानवों ने गायत्री की आग में जलाकर हत्या कर ही दी। गंभीर मामले में नव विवाहिता के परिजनों ने उगली थाना पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े किए हैं। इस मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिवनी कमलेश खरपूसे ने कहा है कि मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।


Share
Bulletin