मंदसौर : अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ के मंदिर में आधी रात से लगी भक्तों की भीड़

मंदसौर : अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ के मंदिर में आधी रात से लगी भक्तों की भीड़

बलवंत भट्ट : आज सावन का पहला सोमवार मंदसौर स्तिथ अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ मंदसौर में आधी रात से ही भक्तों की भीड़ लगी है। जहाँ भक्त भगवान शिव का पूजन अभिषेक कर बिल्व पत्र चढ़ाते है। यू तो विश्वविख्यात पशुपतिनाथ भक्तों के लिए हमेशा खास है लेकिन सावन के सोमवार को यहा विशेष पूजा अर्चना की जाती है। जिससे कि भक्तो की मनोकामना पूरी होती है भक्त परिवार सहित सम्पूर्ण विश्व की खुशहाली के लिए ये पूजा करते है।
    
प्रतिमा अत्यंत ही प्राचीन और दर्शनीय
मध्यप्रदेश के मन्दसौर में स्थित एक मात्र अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ की यह प्रतिमा अत्यंत ही प्राचीन और दर्शनीय है। यह प्रतिमा मन्दसौर की जीवन दायिनी शिवना मैय्या के गर्भ से प्रकट हुई है(शिवना नदी से प्रकट हुई है) जहाँ प्रतिमा की लंबाई साढ़ेसात फिट है तो वही गोलाई में 11 फिट है पशुपतिनाथ की लिंग रूप में बनी इस प्रतिमा में आठ मुख है जिसमे अलग अलग मुख मुद्राये नजर आती है। इस प्रतिमा में बाल्यावस्था, किशोरावस्था, युवावस्था ओर वृद्धा वस्था इस प्रतिमा के अलग अलग मुख में नजर आती है। यह प्रतिमा सेकड़ो वर्ष प्राचीन है । यहां जहा एक तरफ पुरेसाल भक्तो का आना जाना लगा रहता है वही सावन माह में यहां विशेष पूजार्चना की जाति है साथ ही जिले सहित दूर दरार से लोग पैदल कावड़ यात्रा लेकर भी यहा पहुचते है। कार्तिक माह में यहां 15 दिवसीय मेले का आयोजन भी किया जाता है जिसमे दूर दूर से व्यापारी ओर दर्शनार्थी आते है।
   
मनोकामना अभिषेक का आयोजन
भगवान पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में सावन माह में पिछले कुछ सालों से दर्शनार्थियों के लिए मंदिर प्रबंध समिति और गायत्री परिवार द्वारा मनोकामना अभिषेक का आयोजन भी किया जाता है जिसमें रोजाना सेकड़ो भक्त अभिषेक कर धर्मलाभ लेते है। आज सावन सोमवार को देखते हुए प्रशासन भी अलर्ट पर है क्योंकी आज लाखों दर्शनाथी यहां दर्शन करने आते है। रात से ही जिला कलेक्टर सहित पुलिस कप्तान सुरक्षा व्यवथा पर नजर बनाए हुए है तो वही महिलाओं और पुरुषों को अलग-अलग कतार में लगाकर दर्शन करवाये जा रहे है।


Share
Bulletin