शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में भ्रष्टाचार, 3 महीनों से ग्रामीणों को नहीं मिला राशन, एसडीएम से लगाई गुहार

शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में भ्रष्टाचार, 3 महीनों से ग्रामीणों को नहीं मिला राशन, एसडीएम से लगाई गुहार

संदीप सिंह ठाकुर : प्रदेश में गरीब तबके के लोगो को कम दर में राशन मुहैया कराने के लिए शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से राशन वितरण करने की योजना सरकार द्वारा संचालित है जिसे महिला समूहों और ग्राम पंचायतों के द्वारा वितरण कराया जाता है लेकिन इन्ही शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में किस तरह से भ्रष्टाचार होता है। इसकी बानगी लोरमी तहसील के ग्राम पंचायत भांठा में देखने को मिल रही है। जहाँ के करीब 61 ग्रामीणों को तीन महीनों से राशन नही मिल रहा है।

तीन महीनों से ग्रामीणों को नहीं मिला राशन
ग्रामीणों ने बताया कि दो महीनों तक राशन दुकान पंचायत के द्वारा संचालित किया जा रहा था जिसके बाद इस महीने से महिला समूह को प्रभार दिया गया लेकिन न तो पंचायत द्वारा और न ही महिला समूह के द्वारा 62 परिवार के लोगों को राशन दिया जा रहा है। तीन महीनों से हमें राशन वितरण की सूची में नाम कट जाने का हवाला देकर वापस लौटा दिया जाता है राशन नही मिलने के कारण परिवार में भूखे मरने की नौबत आ चुकी है। जिससे परेशान होकर ग्रामीणों ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपते हुए राशन दिलाने की मांग की है। 

ब्लॉक कांग्रेस लोरमी अध्यक्ष के मुताबिक
वहीं इसको लेकर ब्लॉक कांग्रेस लोरमी के अध्यक्ष ने कहा कि भांठा गाँव के ग्रामीण कुछ दिन पहले मेरे पास आये थे राशन की सम्बन्ध में मैन एसडीएम से बात की है इन्हें जल्द ही राशन उपलब्ध कराया जाएगा। वहीं इस पूरे मामले में लोरमी एसडीएम ने फूड इंस्पेक्टर को फारवर्ड करते हुए जल्द की निराकरण करने की बात कही है।
 


Share
Bulletin