धमतरी में फसल परिवर्तन की कोशिशें नाकाम, किसानों ने किया दलहन तिलहन की फसल लेने से साफ इंकार

धमतरी में फसल परिवर्तन की कोशिशें नाकाम, किसानों ने किया दलहन तिलहन की फसल लेने से साफ इंकार

रामेश्वर मरकाम - धमतरी जिले में इस साल फसल परिवर्तन की कोशिशे नाकाम होती दिख रही है किसानो ने दलहन तिलहन की फसल लेने से साफ इंकार कर दिया है तो वही कृषि विभाग की लाख समझाईश के बाद भी किसानो पर कोई फर्क पड़ता नहीं दिख रहा है ये स्थिति बीते बरस के उस कड़वे अनुभव के कारण बनी है जिसमें प्रशासन ने सख्ती से किसानो को धान की जगह दलहन तिलहन की फसल लेने के लिए मजबूर किया था और साथ में ये वादा भी किया था कि चने की फसल को अच्छे दाम में खरीदा जाएगा लेकिन जब किसान अपना चना लेकर मंडियो में पहुंचे तो जो दाम मिले वो फसल की लागत से भी कम थे तब किसानो नें खुद को ठगा हुआ महसूस किया था अब किसान सरकार के झांसे में नहीं आना चाहते और परंपरागत धान की फसल ही लेने का इरादा कर चुके है।

जमीन के नीचे का पानी खत्म होने की कगार पर

आपको बता दे कि बीते साल सूखे के कारण बांध और जमीन के नीचे का पानी लगभग खत्म होने की कगार पर था ऐसे में किसानो को धान की फसल लेने से रोका गया था एक तथ्य ये भी है कि भरपूर पानी के कारण जिले के किसान यहां धान की दोहरी फसल लेते है जिसमें भारी मात्रा में पानी खपत होती है सरकार इस पर नियंत्रण करना चाहती है लेकिन एक बार धोखा खा चुके किसानों को अब शायद समझा पाना मुश्किल है इधर दलहन तिलहन को लेकर प्रशासनिक तैयारी कर ली गई है विभागीय अधिकारियों का कहना है कि जिले में दलहन तिलहन की बोआई के लिए 22 समितियों में तकरीबन 241 क्विंटल दलहन तिलहन का भंडारण किया जा चुका है।


Share
Related News

Bulletin