भारत और पाक को निकालना होगा बीच का रास्ता: फारूख अबदुल्ला

भारत और पाक को निकालना होगा बीच का रास्ता: फारूख अबदुल्ला

हाल ही में जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने अपने बयान में कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के जरिए कश्मीर को प्राप्त नहीं कर सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार को अपने अगले कदम पर भी विचार करना चाहिए क्योंकि पाकिस्तान राज्य में आतंकवाद फैलाना नहीं रोकेगा। 

फारूक अब्दुल्ला ने कहा,आतंकवाद बढने से सिर्फ दोनों देश प्रभावित होंगें बरबाद होंगें। उन्हें चीजों के हल एवं दोनों देशों की समृद्धि की तरफ बढ़ने वाला रास्ता अपनाना चाहिए। अर्थात बीच का रास्ता ढूंढन नितांत आवश्यक है। अन्यथा वे तबाह हो जाएंगे और वहां कुछ नहीं बचेगा। ये हमले होते रहेंगे। ये नहीं रूकेंगे। वे इसे नहीं रोकेंगे। अगर वे इसे सच में रोकना चाहते तो यहां हमले के लिए आतंकवादियों को भेजना जारी नहीं रखते।

अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें इसपर पुनर्विचार करना चाहिए। वे आतंकवाद प्रायोजित कर जम्मू-कश्मीर हासिल नहीं कर सकते है। फैसला 1947 में लिया गया था और उसे बदला नहीं जा सकता है। अगर पाकिस्तान तकदीर बदलने के लिए आतंकवादी भेजता रहेगा तो ऐसा नहीं हो सकता।

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने  नए सिरे से बातचीत करते हुए राज्य में हिंसा पर लगाम लगाने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच की पैरवी की। उन्होंने अपने बयान में कहा कि, अगर फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पाकिस्तान के साथ बातचीत करने को कहते हैं तो उन्हें राष्ट्र विरोधी करार दिया जाता है। बातचीत के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। 


Share
Bulletin