खेल-खेल में चली गोली, नाबालिग की मौत

खेल-खेल में चली गोली, नाबालिग की मौत

भिंड : जिले में खेल-खेल में 14 साल की एक लड़की की जान चली गयी। मृतका का छोटा भाई अपने पिता की रिवॉल्वर से खेल रहा था। तभी अचानक फायर हुआ और गोली सीधे बड़ी बहन को जाकर लगी।  जिसकी मौंके पर ही मौत हो गयी।
मध्यप्रदेश के भिंड जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित धर्मपुरी इलाके में कलेक्टर ऑफिस के क्लर्क दिनेश ओझा का मकान हैं। दिनेश ओझा के घर पर सोमवार सुबह उनका 8 साल का बेटा पिता की लाइसेंसी पिस्टल से खेल रहा था। खेलते-खेलते अचानक उससे ट्रिगर दब गया और गोली सीधे सामने बैठी बहन को जाकर लगी। गोली लगने से 14 वर्षीय लड़की गश खाकर जमीन पर गिर पड़ी और मौके पर उसकी मौंत हो गयी। गोली चलने की आवाज सुनकर परिजन कमरे में पहुंचे तो वहां लड़की का शव पड़ा हुआ था। सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस के अलावा आला पुलिस अफसर भी मौके पर पहुंच गए। दिनेश ओझा ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि रविवार को ही उन्होंने पिस्टल साफ की थी। इस वजह से पिस्टल बाहर रखी हुई थी। परिजनों के बयान के आधार पर पुलिस  जांच कर रही है। हालांकि पुलिस अफसरों का कहना है कि परिजन के बयानों पर पूरी तरह से यकीन नहीं किया जा सकता। ऐसे में गलती से गोली चलने के अलावा अन्य पहलू पर पुलिस की जांच कर रही हैं। पुलिस ने बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं। जांच में फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद भी ली जा रही है। विस्तृत जांच के बाद ही सच का पता चलेगा।

 

भिंड : जिले में खेल-खेल में 14 साल की एक लड़की की जान चली गयी। मृतका का छोटा भाई अपने पिता की रिवॉल्वर से खेल रहा था। तभी अचानक फायर हुआ और गोली सीधे बड़ी बहन को जाकर लगी।  जिसकी मौंके पर ही मौत हो गयी।
मध्यप्रदेश के भिंड जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित धर्मपुरी इलाके में कलेक्टर ऑफिस के क्लर्क दिनेश ओझा का मकान हैं। दिनेश ओझा के घर पर सोमवार सुबह उनका 8 साल का बेटा पिता की लाइसेंसी पिस्टल से खेल रहा था। खेलते-खेलते अचानक उससे ट्रिगर दब गया और गोली सीधे सामने बैठी बहन को जाकर लगी। गोली लगने से 14 वर्षीय लड़की गश खाकर जमीन पर गिर पड़ी और मौके पर उसकी मौंत हो गयी। गोली चलने की आवाज सुनकर परिजन कमरे में पहुंचे तो वहां लड़की का शव पड़ा हुआ था। सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस के अलावा आला पुलिस अफसर भी मौके पर पहुंच गए। दिनेश ओझा ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि रविवार को ही उन्होंने पिस्टल साफ की थी। इस वजह से पिस्टल बाहर रखी हुई थी। परिजनों के बयान के आधार पर पुलिस  जांच कर रही है। हालांकि पुलिस अफसरों का कहना है कि परिजन के बयानों पर पूरी तरह से यकीन नहीं किया जा सकता। ऐसे में गलती से गोली चलने के अलावा अन्य पहलू पर पुलिस की जांच कर रही हैं। पुलिस ने बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं। जांच में फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद भी ली जा रही है। विस्तृत जांच के बाद ही सच का पता चलेगा।

 


Share
Bulletin