जब स्वास्थ्य महकमे ने डेंगू पर नहीं पाया काबू तो पानी की सप्लाई को बना दिया मुद्दा

जब स्वास्थ्य महकमे ने डेंगू पर नहीं पाया काबू तो पानी की सप्लाई को बना दिया मुद्दा

विनोद शर्मा : जब ग्वालियर का स्वास्थ महकमा डेंगू पर काबू नही पा सका है, तो वह अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने के लिए पानी की सप्लाई को मुद्दा बनाने में लग गया है। जिला मलेरिया आधिकारी का कहना है कि मलेरिया उनकी गलती से नही फैला है। बल्कि ग्वालियर के जिन इलाकों में पानी की सप्लाई दो से तीन के बीच होती है, वहां लोग पानी का स्टोर कर ले रहे है। जिससे डेंगू का लार्वा पैदा हो रहा है, उसका मच्छर लोगों को अपना शिकार बना रहा है। दरअसल ग्वालियर चंबल संभाग में डेंगू का प्रकोप बेकाबू हो गया है। पिछले दो माह में ग्वालियर, शिवपुरी, मुरैना, भिंड, श्योपुर व दतिया में आठ हजार से अधिक रोगी सामने आ चुके हैं। 7 बच्चों सहित 13 मरीजों की डेंगू से मौत हो चुकी है। सरकारी पैथोलॉजी में ही ग्वालियर में 1578 मरीज डेंगू पॉजिटिव पाए गए हैं। जबकि निजी पैथोलॉजी के आंकड़े मरीजों की संख्या 8 हजार से अधिक बता रहे हैं। 

ग्वालियर, मुरैना व शिवपुरी में हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि यहां सरकारी व निजी अस्पतालों में बेड कम पड़ रहे हैं। लोग इलाज कराने के लिए दिल्ली, कोटा व जयपुर जा रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग, मलेरिया विभाग और नगर निगम के अफसरों में तालमेल न होने के कारण डेंगू का लार्वा खत्म नहीं हो पा रहा है। बावजूद इसके सरकार खामोश है, जबकि डेंगू के कहर को देखते हुए हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने भी इस मामले में मध्य प्रदेश शासन और स्वास्थ विभाग को फटकार भी लगाई है। लेकिन सरकार अभ फौरी तौर पर ही इंतेजाम कर रही है। वहीं प्रशासन ने डेंगू के हालतों को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी को लिखे पत्र में कहा गया है कि डेंगू के मरीज बढ़ रहे हैं। इसलिए यदि स्कूल का ड्रेस कोड हॉफ पेंट और आधी बांह की शर्ट है तो इसमें बदलाव किया जाए। बच्चों को फुल पेंट, पूरी बांह की शर्ट पहनने को कहा जाए। साथ ही बच्चे मॉस्किटो क्रीम का प्रयोग करें। जिससे मच्छरों से बचाव हो सके। इसके अलावा स्कूलों में बच्चों को डेंगू को लेकर जागरुक भी किया जाए।

ग्वालियर-चंबल में ये हैं डेंगू के मौजूदा हालात...

· ग्वालियर जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में-1578, प्राइवेट में 5000, 5 लोगों की हो चुकी है मौत।

· मुरैना जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में-169, प्राइवेट में 1000, 5 लोगों की हो चुकी है मौत।

· भिंड़ जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में-28, प्राइवेट में 200 भर्ती है। 

· शिवपुरी जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में-519, प्राइवेट में 2000, 2 लोगों की हो चुकी है मौत।

· दतिया जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में- 3, प्राइवेट में 50 लोग भर्ती है।

· श्योपुर जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सरकारी अस्पतालों में-02, प्राइवेट में 50, 1 लोगों की हो चुकी है मौत।


Share
Bulletin