सागर में 14 वर्षीय लड़की के मुं​ह में कपड़ा बांधकर बारी बारी से किया बलात्कार

सागर में 14 वर्षीय लड़की के मुं​ह में कपड़ा बांधकर बारी बारी से किया बलात्कार

मंदसौर, सतना के साथ प्रदेश में प्रतिदिन बढ़ रही नाबालिग बच्चियों के साथ सामूहिक गैंगरेप की घटनाओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को सागर जिले की देवरी विधानसभा क्षेत्र के गौरझामर थाना क्षेत्र के ग्राम जैतपुर कछिया में कक्षा दसवीं में पढ़ने वाली 14 वर्षीय छात्रा के साथ घर में बंद कर कर बारी बारी से बलात्कार किया और रात्रि में मुंह बांध कर बेहोशी की हालत में स्कूल के पास फेंक दिया। 

मानवता को शर्मसार करने वाली इस घटना की सूचना पीड़ित के परिजनों द्वारा डायल हंड्रेड गौरझामर को दी गई पुलिस पहुंची लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई पीड़ित छात्रा को 108 एंबुलेंस से देवरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां शुल्क लेने के बाद भी भरती पर्ची नहीं बनाई गई। देर रात से सुबह तक पीड़ित छात्रा दर्द से कराहती रही जब इसकी भनक बुधवार की सुबह मीडिया कर्मियों को मिली और उन्होंने पीड़ित और उनके परिजनों से चर्चा की तब अस्पताल प्रबंधन नींद से जागा और परिजनों से लगातार बहस बाजी करते हुए इलाज करने पर राजी हुआ। 

पुलिस की लापरवाही
घटना के 12 घंटे बाद भी गौरझामर पुलिस थाना से कोई भी अधिकारी कर्मचारी पीड़िता के कथन लेने के लिए नहीं पहुंचा। सबसे पहले स्वराज एक्सप्रेस द्वारा यह मामला उजागर करने पर SP सत्येंद्र शुक्ला एवं तीनों पुलिस थानों के थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ 10:30 बजे अस्पताल पहुंचे और पीड़ित छात्रा एवं उनके परिजनों से मुलाकात की है। 

कब और कैसे हुई घटना- 
ग्राम जैतपुर कसया में सरपंच के निवास के पास रहने वाले कक्षा दसवीं में पढ़ने वाली  14 वर्षीय एक आदिवासी छात्रा को गांव की ही ममता रानी खेत ले जाने के लिए हाथ पकड़ कर ले गई और कुछ देर बाद उसने अपने घर में छात्रा को बंद कर बाहर से दरवाजे की कुंडी लगा दी और वहां से चली गई। कुछ देर बाद पड़ोस में ही रहने वाले आरोपित राजेश अहिरवार हल्ले अहिरवार गोपाल अहिरवार और धर्मेंद्र पटेल घर में घुस आए और दरवाजा बंद करके चारों ने छात्रा के साथ बारी-बारी से बलात्कार किया। 

छात्रा के मुंह में कपड़ा बांधकर फेंका
पीड़ित छात्रा के अनुसार देश के बाद आरोपित राजेश अपने घर शाम को ले गए और वहां राजेश और हल्ले अहिरवार ने दोबारा बलात्कार किया जहां छात्रा बेहोश हो गई। रात्रि करीब 11:00 बजे छात्रा के मुंह में कपड़ा बांधकर कर आरोपियों ने स्कूल के पास फेंक दिया। वहीं छात्रा के परिजन जगह-जगह खोजबीन में जुटे हुए थे जैसे ही छात्रा को बेहोशी की हालत में फेंका जा रहा था परिजनों ने देख लिया और तुरंत डायल हंड्रेड गौरझामर को फोन किया इसके बाद डायल हंड्रेड मौके पर पहुंची लेकिन कोई भी कार्यवाही नहीं हुई परिजनों द्वारा 108 एंबुलेंस को फोन करके बुलाया गया और देवरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। लेकिन यहां भी अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के कारण 12 घंटे तक पीड़ित छात्रा का इलाज नहीं हो सका। 

छात्रा की दादी के मुताबिक
छात्रा की दादी का कहना है कि पैसा जमा करने के बाद भी ओपीडी में भर्ती पर्ची नहीं बनाई गई। डॉक्टरों का कहना था कि पीड़ित के परिजनों ने यह नहीं बताया कि छात्रा के साथ बलात्कार हुआ है। यह मामला मीडिया में उजागर होने के बाद प्रदेश की खबरों की सुर्खियां बनने के बाद तीनों पुलिस थानों के अधिकारी पुलिस थाने पहुंचे वही सूचना मिलने पर सागर जिले के पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र शुक्ला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंच कर पीड़ित छात्रा का हालचाल जाना और परिजनों से चर्चा की और उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया है।
 


Share
Bulletin