असामाजिक तत्वों ने महापुरूषों का किया अपमान, मिट्टी प्रयोगशाला में ही दफना दी मूर्तियां

असामाजिक तत्वों ने महापुरूषों का किया अपमान, मिट्टी प्रयोगशाला में ही दफना दी मूर्तियां

बुरहानपुर में 19 फरवरी को संस्कृति विभाग द्वारा शिवाजी महाराज की जयंती के अवसर पर एक विशाल शोभायात्रा निकाली गई थी, जिसमें शिवाजी महाराज, गुरूगोविंद सिंह, संत तुकाराम, बाबा साहब अंबेडकर, रानी लक्ष्मीबाई, ज्योतीबा फुले आदि महात्माओं की झांकी निकाली गई थी उन मूर्तियों को जिला प्रशासन ने कृषि उपज मंडी में मिट्टी प्रयोग शाला में सुरक्षित रखी थी किंतु उन मुर्तीयों को दो दिन पूर्व किन्ही शरारती तत्वों ने मिट्टी प्रयोगशाला परिसर में ही गड्ढा खोद कर दफना दी।

इस बात से मराठा समाज और दलित वर्ग के लोग आक्रोशित होकर मंडी परिसर में ही धरने पर बैठ गए और कार्यवाही की मांग करने लगे, तभी शिकारपुरा थाना प्रभारी दलबल के साथ पंहुचे मामला बिगडता देख सीएसपी के पी डेविड सहित लालबाग थाना प्रभारी भी दलबल के साथ पंहुचे बावजूद युवा उसे खोदकर निकालने पर अडे रहे और जेसीबी बुलाकर मुर्तीयों को बाहर निकलवाया।

अब देखना होगा कि इन मूर्तियों को विसर्जित किया जाता हैं या कोई और अन्य स्थान पर सुरक्षित रखा जाएगा। वहां उपस्थित युवा इस तरह का कृत्य करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मांग करने लगे वहीं एसडीएम सोहन कनाश और सीएसपी के पी डेविड की निगरानी में मूर्तियों को बाहर निकाला गया और अधिकारियों के द्वारा जांच कर दोषियों पर कार्यवाही की बात कही गई।


Share
Bulletin