शिवपुरीः मंदिर में न्याय, पुलिस की पिटाई से टूटी युवक की दोनों टांगे

शिवपुरीः मंदिर में न्याय, पुलिस की पिटाई से टूटी युवक की दोनों टांगे

के.के.दुबे - शिवपुरी पुलिस ने लोगों के साथ न्याय करने का एक अनोखा रास्ता ढूंढ लिया है। अब पुलिस मंदिर पर कसम खाने के बाद मान लेगी कि आरोपी सही है या नहीं। ऐसी ही अनोखी दलील देते शिवपुरी टीआई बादाम सिंह नजर आ रहे हैं। दरअसल सारा मामला सिटी कोतवाली के अंतर्गत आने वाली अनाज मंडी का है। जहां पर 1 सितंबर को कुछ लोग जुआ खेल रहे थे। पुलिस ने जाकर छापा मारा, जिसमे सारे जुआरी भाग गए, लेकिन युवक सोहेल खान पकड़ा गया। जिसकी पिटाई पुलिस ने की। सोहेल का आरोप है कि पुलिस ने मुझे इतना पीटा  कि मेरे दिनों पैर फ्रैक्चर हो गए हैं। लेकिन पुलिस ने उस समय यह कहकर घर भेज दिया कि तुम्हारा इलाज करा दिया जाएगा। अब पुलिस इलाज कराने से मना कर रही है।

पुलिस पर लगाया युवक ने मारपीट का आरोप व पैसे छीनने का आरोप

दरअसल युवक की टांग तोड़ने के बाद पुलिस को लगा कि अब मामला पेचीदा हो गया है तो पुलिस ने उसे समझा बुझाकर घर भेज दिया कि तुम्हारा इलाज टीआई साहब कर देंगे। लेकिन जब युवक की डॉक्टरी जांच होने के बाद युवक को पता चला कि उसकी दोनो टांगों में करीब 50 से 60 हजार खर्च आएगा, तो युवक टीआई के पास पहुंचा। टीआई ने इलाज कराने से मना कर दिया और युवक से कहा कि मंदिर पर जाकर कसम खाओ कि पुलिस ने तुम्हें मारा है और तुम्हारे पैसे छीने हैं।

पुलिस की अजीब दलील मंदिर पर कसम खाने के बाद होगा केस दर्ज

वहीं कांग्रेस के पार्षद आकाश शर्मा का कहना है कि पुलिस इलाज कराने की कहकर अब मुकर रही है। सिटी कोतवाली टीआई का कहना है कि मैंने तो मानवीयता के आधार पर कसम खाने के लिए बोल दिया था। अब ये समझ से परे है कि यदि कानून ही कसम खाने के बाद न्याय करने लगे तो फिर क्या थानों को बंद करके सिर्फ मंदिर में कसम खाने से ही पुलिस मान लेगी कि अपराधी ने अपराध नहीं किया है।


Share
Bulletin