कीचड़ में लथपथ होकर बच्चे पढ़ाई करने पर मजबूर, अफसर सो रहे कुम्भकर्णीय नींद

कीचड़ में लथपथ होकर बच्चे पढ़ाई करने पर मजबूर, अफसर सो रहे कुम्भकर्णीय नींद

मोहन बघेल - कुम्भराज ब्लॉक मुख्यालय से 16 किमी की दूरी पर स्थित गाँव जोहरीपुरा गाँव में आज़ादी के बाद से ही सड़क नहीं बन पाई है। ग्रामवासी कच्ची पगडण्डी के सहारे रास्ता तय करते हैं। वही स्कूली बच्चे भी पढ़ाई लिखाई के लिए कीचड़ में लथपथ होकर शिक्षा ग्रहण करने पहुँचते हैं हालात बारिश के मौसम में और भी ज्यादा बदतर स्थिति में पहुँच जाते हैं बारिश में कीचड़ इतना ज्यादा हो जाता है की कइयों बार दो पहिया वाहन भी फिसलकर गिरने लगते हैं। 

शिक्षक नवीन बैरागी ने वीडियो बनाकर गाँव की स्थितियों से जिला प्रशासन को अवगत कराने की कोशिश की है शिक्षक दिवस के मौके पर शिक्षक की इस पहल ने ग्रामीणों को एक उम्मीद की किरण दिखा दी है। जिला प्रशासन से लगाई गई गिहार के बाद आला अफसरों की कुम्भकर्णीय नींद कब तक टूटेगी ये तो आने वाला वक्त ही बता पायेगा बहरहाल शिक्षक की इस मुहिम ने शिक्षक दिवस पर जो मिसाल पेश की है वो बेहद कबीले तारीफ़ जरूर है। 

 


Share
Bulletin