मध्यप्रदेश : नायब तहसीलदार-तहसीलदार 10 अक्टूबर से सामूहिक अवकाश पर, सरकार नहीं देगी ध्यान तो जायेंगे हड़ताल पर...

मध्यप्रदेश : नायब तहसीलदार-तहसीलदार 10 अक्टूबर से सामूहिक अवकाश पर, सरकार नहीं देगी ध्यान तो जायेंगे हड़ताल पर...

भोपाल  : नायब तहसीलदार व तहसीलदार 10 अक्टूबर से सामूहिक अवकाश पर रहेंगे। अवकाश 7 दिन का होगा, तब तक कोई काम नहीं करेंगे। इसके कारण फसल सर्वे से जुड़े काम, जाति प्रमाण पत्र व जमीनी प्रकरण जैसे काम नहीं होंगे। अवकाश राजस्व अधिकारी संघ के आव्हान पर लिया जा रहा है। बता दें कि, संघ ने इसकी वजह तहसीलदार, नायब तहसीलदारों के मानसिक तनाव का होना बताया है। यह तनाव कई मांगों के लंबित होने, ऑनलाइन व्यवस्था के तहत कामों की समय सीमा तय करने, पदोन्नति नहीं देने, काम का अधिक बोझ होने आदि कारणों से बढ़ना बताया जा रहा है।

1000 तहसीलदार-नायब तहसीलदार, 350 पर अतिरिक्त प्रभार
मप्र राजस्व अधिकारी संघ अध्यक्ष नरेंद्र सिंह ठाकुर का कहना है कि प्रदेश में 1000 तहसीलदार, नायब तहसीलदार हैं। वहीं, तहसीलदारों के 350 से अधिक पद खाली हैं। ये पद नायब तहसीलदारों को पदोन्नति देकर भरे जाने हैं। इनका काम मौजूदा 350 तहसीलदारों को करना पड़ रहा है। इस कारण इतने तहसीलदारों पर काम का अतिरिक्त बोझ हो रहा है। इससे वे मानसिक तनाव में है। नायब तहसीलदार, तहसीलदारों को सालों से पदोन्न्तियां नहीं मिल रही है। कई तहसीलदार व डिप्टी कलेक्टर सेवानिवृत्त हो चुके हैं। संघ ने तत्काल पदोन्नति का रास्ता खोलने की मांग की है।

किसानों के प्रकरणों का समय पर नहीं हो रहा निपटारा...
मानवीय संसाधनों के अलावा कंप्यूटर ऑपरेटर, लिपिक, भृत्य, चौकीदार, भवन, फर्नीचर, नियमित मासिक बजट की कमी है। किसानों के प्रकरणों को समय पर निपटाने में दिक्कतें आती हैं। उन्हें परेशान होना पड़ता है।

एक महीने का अतिरिक्त वेतन बकाया...
राजस्व अधिकारी 24 घंटे काम कर रहे हैं। फिर भी एक महीने का अतिरिक्त वेतन नहीं मिल रहा। साप्ताहिक अवकाश की सुविधा भी नहीं है। मानसिक तनाव से पूरा परिवार प्रभावित हो रहा है।

16 अक्टूबर से हड़ताल पर जा सकते हैं राजस्व अधिका​री...
मई-जून में ट्रांसफर करने थे, जो अभी तक किए जा रहे हैं। इसके कारण परिवार अस्त-व्यस्त हो रहा है, सरकार को इसकी चिंता नही है। अभी सामूहिक अवकाश पर जा रहे हैं। इसके बाद भी सरकार ने ध्यान नहीं दिया तो 16 अक्टूबर से हड़ताल पर चले जाएंगे।
 


Share
Bulletin