सड़क पर हुई आदिवासी महिला की डिलेवरी

सड़क पर हुई आदिवासी महिला की डिलेवरी

एक बार फिर पन्ना के शाहनगर में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का नमूना देखने को मिला है। जहाँ एक आदिवासी महिला ने स्वास्थ्य विभाग से कुछ ही दूरी पर दर्द से कराहते हुए सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया परंतु पीड़िता को स्वास्थ्य सेवाएं नही मिल सकी।

शाहनगर वन परिक्षेत्र कार्यालय के सामने रोड किनारे आदिवासी महिला रामबती को प्रसव पीड़ा होने लगी जिसकी जानकारी लोगो द्वारा शाहनगर स्वास्थ्य विभाग को दी, लंबे इंतजार के बाद भी स्वास्थ बिभाग का न तो कोई कर्मचारी मौके पर पहुंचा और न ही स्वास्थ्य विभाग का 108 व जननी एक्सप्रेस वाहन पहुंचा। तब दर्द से कराह रही पीड़ित महिला की मदद के लिए वहाँ पर निवासरत वन रक्षक की पत्नी प्रभा पाण्डेय व उनकी दो पुत्रियां एवं समाजसेविका राजकुमारी मिश्रा की मदद से प्रसूता की अस्मिता बचाते हुए साड़ियों से ढक कर सड़क किनारे ही जच्चा-बच्चा की जान बचाते हुए डिलेवरी कराई।

डिलेवरी होने के बाद मौके पर पहुंची 108 एम्बुलेंस से जच्चा-बच्चा को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र शाहनगर पहुंचाया गया जहाँ इलाज जारी है और जच्चा-बच्चा दोनों ही स्वस्थ बताये जा रहे है। मौके से कुछ ही दूरी पर स्वास्थ बिभाग होने के बाद भी स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया न हो पाना और खुले में महिला की डिलेवरी हो जाना स्वास्थ बिभाग पर अनेक सवाल खड़े करता है।
 


Share
Bulletin