साबुन फैक्टी द्वारा खतरनाक केमिलकल्स फेकने से फसलें चौपट व मवेशियों की मौत, नहीं हो रही उचित कार्यवाही

साबुन फैक्टी द्वारा खतरनाक केमिलकल्स फेकने से फसलें चौपट व मवेशियों की मौत, नहीं हो रही उचित कार्यवाही

मुकुल शुक्ला - सागर शहर से कुछ ही दूरी पर वसा मझगुवां गांव बरसात के 4 महीने मुसीबतों के साए में रहता है जिसकी वजह एक साबुन फैक्ट्री द्वारा खरतनाक केमिकल्स को रात के अंधेरे में गांव के बीच डाल दिया जाता है वह जहरीला कैमिकल मवेशियों से लेकर किसानों की फसलों को तबाह कर देता है ऐसा बरसात के दिनों में ही फैक्ट्री द्वारा किया जाता है मझगुवां में रहने वाले सरपंच और ग्रामीणों की माने तो बरसात का फायदा उठाकर पास ही बनी घड़ी साबुन फैक्ट्री द्वारा जहरीला केमिकल गांव के अंदर लाकर डाल दिया जाता है।

सबूतों को मिटाने के लिए डाली जा रही मिट्टी

जो की वह कर तालाब और खेतों में पहुंच जाता है इस केमिकल की वजह से अब तक कई मवेशियों की मौत हो चुकी है तो वहीं खेतों में केमिकल के पहुँच जाने से उस खेत की फसलें भी नष्ट हो जाती हैं घड़ी साबुन फैक्ट्री का निकला केमिकल सड़क किनारे बहा दिया जाता है और अब फैक्ट्री द्वारा वाहे गए केमिकल के सबूतों को मिटाने के लिए मिट्टी डाली जा रही है मझगुवां गांव में केमिकल से हो रही मवेशियों की मौत के संबंध में ग्रामीण ने बताया कि बरसात के दौरान केमिलकल्स मिले पानी को पीने से मवेशियों की मौत हो जाती है मजबूरी में मवेशियों को घरों में बांधके रखना पड़ता है।

एसडीएम से की गई शिकायत

वही जब हमने ग्राम के सरपंच से इस संबंध में बात की तो उन्होंने भी इस बात को स्वीकारते हुए कहा कि घड़ी साबुन फैक्ट्री द्वारा हर साल ही बरसात के दिनों में खतरनाक केमिकल गांव में डाल दिए जाने से फसलें चौपट हो जाती हैं और मवेशी केमिकल मिले पानी को पीने से काल के गाल में समा जाते हैं इस संबंध में एसडीएम से शिकायत की गई है सरपंच का कहना है कि अगर घड़ी साबुन फैक्ट्री द्वारा एक खतरनाक केमिकल को फेंकना बंद नहीं किया गया तो फिर गांव के लोग सड़कों पर आकर उग्र आंदोलन करेंगे।

जांच की रिपोर्ट सौपी गई है उच्च अधिकारियों को

गांव के सरपंच और ग्रामीणों की बात से यह बात तो सिद्ध हो जाती है कि निश्चित ही मझगुवां गांव में खतरनाक केमिकल ग्राम वासियों और मवेशियों से लेकर फसलों के लिए घातक साबित हो रहा है हालांकि SDM से शिकायत किए जाने के बाद पटवारी अभय शुक्ला द्वारा मौके पर पहुंचकर मामले की जांच की जा रही है मौके पर मौजूद पटवारी अभय शुक्ला ने बताया कि SDM के निर्देश पर जांच करने मौके पर आए हैं जांच उपरांत रिपोर्ट को उच्च अधिकारियों को सौंपी जाएगी जिसके बाद संबंधित के खिलाफ कार्यवाही होगी। 

यह समस्या हर साल की है

वहरहाल मझगुवां गांव में यह समस्या अभी की नहीं बल्कि की हर साल की है यहां पर बरसात के मौसम का फायदा उठाकर घड़ी साबुन फैक्ट्री द्वारा खतरनाक केमिकल को रात के अंधेरे में गांव ले जाकर बहा दिया जाता है और जब सुबह होती है तो यही केमिकल गांव के लोगों के लिए जी का जंजाल बन जाता है अब देखना होगा कि इस मामले में प्रशासनिक तौर पर कितनी उचित कार्यवाही कर इस समस्या से मझगुवा के रहवासियों को राहत दिलाई जाती है।

 


Share
Bulletin