एक व्यक्ति द्वारा आम रास्ते को निजी भूमि बताकर किया कब्जा, वार्ड के राहबासी परेशान

एक व्यक्ति द्वारा आम रास्ते को निजी भूमि बताकर किया कब्जा, वार्ड के राहबासी परेशान

मुकुल शुक्ला - मकरोनिया नगर पालिका के रानी दुर्गावती के रहवासियो ने अपने पड़ोसी शालिकराम पटेल पर सार्वजनिक रास्ते को बंद करने का आरोप लगाया है उनका कहना है कि दर्जनों परिवार इस रास्ते के बंद होने से निकास की समस्या से जूझ रहे है इन सभी का आरोप है की शालिकराम पटेल द्वारा आम रास्ते को कागजो में दर्ज करा कर कब्जा कर लिया गया है जिससे कई परिवारो का आवागमन अवरुद्ध हो गया है इस रास्ते के बंद होने से सबसे ज्यादा परेशानी देवेंद्र पटेल व उनके परिवार को भुगतनी पढ़ रही है।

खेतो से गुजर कर करना पड़ रहा है गुजारा

रास्ता बंद होने से इनके परिवार को करीब 1 किलोमीटर का सफर घर पहुंचने के लिए रोजाना तय करना पड़ रहा है और वो भी खेत से होकर पगडंडी के सहारे ओर वारिस में खेत से होकर गुजरना इनके लिए किसी सजा से कम नही है इसके अलावा इनके परिवार के छोटे छोटे बच्चे इसी रास्ते से होकर गुजरते है जबकि इस पगडंडी के बिल्कुल बाजू में कई कुँए भी पड़ते है ओर वो भी खुली मुंडेर के अब ऐसे में हमेसा ही किसी न किसी अनहोनी का अंदेशा बना रहता है यहाँ यह कहना गलत नही होगा कि ये मासूम उस गुनाह की सजा भुगत रहे है जो इन्होंने किया ही नही है।

बना रहता है नाले का खतरा

इतना ही नही जिस छोटे रास्ते से इस परिवार का रोज आवागमन हो रहा है उसके ठीक बाजू में एक बड़ा नाला भी होकर गुजरता है जो बरसात के दिनों में ऊपर से बहता है जो किसी बड़े खतरे से कम नही है और अगर इन्ही सब समस्याओं की बीच परिबार के सदस्यों पर कोई मुसीबत या स्वास्थ संबंधी समस्या आ जाये तो मुख्य सड़क तक पहुंच पाना भी संभव नही है।

सार्वजनिक रास्ते को बंद करने का लगाया गया आरोप

ये परिवार कई बार शासन प्रशासन से गुहार लगा चुका है यहाँ तक कि महामहिम राष्ट्रपति तक अपनी समस्या पहुंचा चुका है लेकिन फिर भी नतीजा सिफर रहा अकेला यही परिवार नही जो मुसीबत का दंश झेल रहा है और भी कई परिवार है जो इस समस्या से रोजाना दो चार हो रहे है और उन्होंने भी शालिकराम पटेल पर रसूख के चलते प्रशासनिक अधिकारियों से सांठगांठ कर सार्वजनिक रास्ते को बंद करने के आरोप लगाए है।

एसडीएम से की उचित कार्यवाही की मांग

इस पूरे मामले में जब हमने शालिकराम पटेल से बात की तो उन्होंने तमाम आरोपो को झूठा बताते हुए उस रास्ते को निजी भूमि बताया है और इस बात की जानकारी प्रशासनिक अधिकारियों को भी होने की बात उनके द्वारा कही गई है इस समस्या को लेकर इन सभी वार्डवासीयो ने एस डी एम से उचित कार्यवाही करने की फिर से गुहार लगाई है अब देखना होगा कि इन रहवासियो को प्रशासनिक नुमाइंदे कब तक इस मुसीबत से निजात दिला पाते है।

 


Share
Bulletin