किसान व्यस्त नेता पस्त, किसानों से मिलने के लिए नेता लगा रहे खेतों की तरफ दौड़

किसान व्यस्त नेता पस्त, किसानों से मिलने के लिए नेता लगा रहे खेतों की तरफ दौड़

पुरूषोत्त्म पात्रा : गरियाबंद में इन दिनों किसान व्यस्त और नेता पस्त का नजारा देखने को मिल रहा है, खेती किसानी का समय चल रहा है, और किसान इन दिनों अपनी फसल कटाई में व्यस्त है वही चुनावी माहौल होने के कारण नेताओं से मिलने के लिए खेतों तक दौड लगानी पड रही है, ऐसा करने में नेताओं की हालत पस्त हो गयी है।

चुनाव और फसल कटाई एक ही समय में होने के कारण नेता और किसान बहुत परेशान है, नेताओं के लिए ये समय चुनाव प्रचार का है, और किसानों के लिए फसल कटाई का, नेताओं ने अपने चुनाव प्रचार के लिेए ताकत तो झोंक रखी है मगर गरियाबंद जैसे ग्रामीण ईलाके में नेताओं को इन दिनों गॉवों में पब्लिक नही मिल रही है, अपने प्रचार के लिए नेताओं को खेतों तक दौड लगानी पड रही है, 5822 वर्ग किमी में फैले गरियाबंद जिले की दोनों विधानसभाओं में 4,12060 मतदाता है, अधिकतर खेती किसानी पर निर्भर है, और इन दिनों सभी खेती किसानी के कार्य में व्यस्त है, किसानों के लिए फसल ही उनकी सालभर की रोजी रोटी का जरिया है, ऐसे में ग्रामीण ईलाके के कार्यकर्ता और आम जनता चाह कर भी चुनाव प्रचार में अपनी भागीदारी नही निभा पा रहे है।

नेताओं के लिए ये समय करो या मरो है, जिले की दोनों विधानसभा से 18 उम्मीदवार मैदान में है, राजिम विधानसभा से 12 उम्मीदवार अपनी किस्मत अजमा रहे है वहीं बिन्द्रानवागढ विधानसभा से 6 उम्मीदवारों ने अपनी ताल ठोंक रखी है, सप्ताहभर पहले ही इनको उम्मीदवार घोषित किया गया है, 20 नवंबर को चुनाव होने है, इतने कम समय में पुरे विधानसभा के हर गॉव गली मौहले तक पहुंचना इनके लिए टेढी खीर साबित है रहा है, वही खेती किसानी का समय होने के कारण गॉवों में लोग भी नही मिल रहे है, ऐसे में नेताओं को जनता से मिलने के लिए खेतो तक का सफर तय करना पड रहा है।

नेता खेतों में जाकर किसानों से मिलने की भले ही अलग अनुभूति बता रहे हो, मगर खेती किसानी के समय चुनाव होने से राजनीतिक पार्टियों को कडी मशक्कत करनी पड रही है, बहरहाल देखना दिलचस्प होगा कि ऐसी कठिन परिस्थितियों में नेता किस तरह जनता को अपने पक्ष में करने में कामयाब होते है।


Share
Bulletin