मंदसौरः आजादी के 70 वर्ष बाद भी बोलिया गांव जाने के लिए नहीं बनी सड़क

मंदसौरः आजादी के 70 वर्ष बाद भी बोलिया गांव जाने के लिए नहीं बनी सड़क

राहुल प्रजापति- मध्य प्रदेश सरकार सड़क बनाने के बड़े-बड़े वादे तो कर रही है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। अगर धरातल पर नजर डाले तो कई जगह तो ऐसी है, जहां पर आज भी ग्रामीणों को कीचड़ में ही चलना पड़ता है। ऐसा ही एक मामला गरोठ जनपद पंचायत के गांव खारखेड़ा का है। जहां पर आज तक सड़क का निर्माण नहीं हो पाया। गांव से बोलिया जाने के लिए लोगों को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ता है। आजादी के 70 साल बीत जाने के बाद भी आज तक इस गांव में सड़क नहीं बनी। आज भी इस गांव के नौनिहाल बच्चे अपना भविष्य बनाने के लिए कीचड़ पार करके स्कूल जाते हैं। कई बार तो इन बच्चों के बैग साइकिल तक कीचड़ में गिर जाती है। इन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, लेकिन जिम्मेदार है कि ध्यान ही नहीं देते।

हर चुनाव में उड़ता है यह मुद्दा, चुनाव होने के बाद नहीं देखते गांव तरफ

गांव खारखेड़ा से बोलिया जाने के लिए कच्ची सड़क है। बरसात के दिनों में यहां गांव वाले ग्रामीणों को और बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। कीचड़ अधिक होने के कारण कई बार तो हादसे का अंदेशा बना रहता है। गांव में सड़क बनाने का पिछले विधानसभा चुनाव में भी उठा था मुद्दा। गांव खारखेड़ा से बोलिया जाने के लिए काफी समस्या का सामना करना पड़ता है। कीचड़ होने से बच्चे स्कूल नहीं जा पाते हैं। यह समस्या हर चुनाव में मुद्दा बनकर उठती है, केवल मुद्दा बनकर ही रह जाती है। हर बार चुनाव में यहां नेता वादे करके चले जाते हैं, उसके बाद गांव की तरफ जाते भी नहीं है।


Share
Bulletin