कांग्रेस की आखिरी सूची में प्रत्याशियों के नाम जारी होते ही पार्टी में उठे बगावत के सुर

कांग्रेस की आखिरी सूची में प्रत्याशियों के नाम जारी होते ही पार्टी में उठे बगावत के सुर

गिर्राज बौहरे :  विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की आखिरी सूची में प्रत्यशियों के नाम जारी होते ही पार्टी में बगावत के सुर उठाने लगे है। भिण्ड सीट से कांग्रेस आलाकमान द्वारा जिलाध्यक्ष रमेश दुबे के नाम की घोषणा के बाद कार्यकर्ताओं ने विरोध जताया। पूर्व चुनाव में प्रत्याशी रहे एवं जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष डॉ राधेश्याम शर्मा ने रमेश दुबे को विधानसभा चुनाव में सबसे कमजोर प्रत्याशी बताते हुए उनकी जमानत तक ज़प्त होने की बात कही। वही कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री जयश्रीराम बघेल ने पार्टी के इस फैसले को पूरी तरह से गलत बता कर ज्योतिरादित्य सिंधिया पर सवालिया निशान खड़ा करते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

दरअसल डॉ. राधेश्याम शर्मा, रमेश दुबे और जयश्रीराम तीनों सिंधिया खेमे के होकर अपने-अपने लिए पार्टी से टिकट मांग रहे थे। वहीं डॉ राधेश्याम पिछले चुनाव में कांग्रेस की और से प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े थे, जो 21 हजार के लगभग वोट हासिल कर तीसरे नंबर पर रहे। वही रमेश दुबे भी एक बार निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भिण्ड से अपना भाग्य आजमा चुके है, जिसमें उनकी मात्र 800 वोट आने पर उनकी जमानत तक ज़प्त हुई थी। ऐसे में विरोध में आए कांग्रेसी पार्टी आलाकमान के इस फैसले को विरोधियों के लिए भिण्ड सीट थाली में सजाकर देने की बात कह रहे हैं। कांग्रेस पार्टी से रमेश दुबे को प्रत्याशी बनाए जाने के बाद पार्टी के अंदर सिंधिया खेमे में गुटबाजी खुलकर सामने आगई और कार्यकर्ताओं ने रमेश दुबे का समर्थन करने से साफ तौर पर मना कर दिया है।


Share
Bulletin